चिन्मयानंद की हालत फिर बिगड़ी...इलाज के लिए एसजीपीजीआई लाया गया

चिन्मयानंद की हालत फिर बिगड़ी...इलाज के लिए एसजीपीजीआई लाया गया

लखनऊ। कानून की छात्रा के यौन शोषण के आरोप में गिरफ्तार किये गये पूर्व केंद्रीय मंत्री और भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता रहे स्वामी चिन्मयानंद को आज शाहजहांपुर जेल से राजधानी लखनऊ के संजय गांधी आयुर्विज्ञान संस्थान लाया गया, जबकि उच्चतम न्यायालय के आदेश पर इस मामले की जांच कर रही एसआईटी की टीम ने इलाहाबाद उच्च न्यायालय की विशेष पीठ को अपनी प्रगति रिपोर्ट पेश कर दी। शाहजहांपुर में जेल में बंद स्वामी चिन्यमानंद का शुगर लेबल बढ़ा हुआ है और उन्होंने सीने में दर्द की शिकायत की थी। उन्हें एसजीपीजीआई के कार्डियोलाजी विभाग के इंटेसिव केयर यूनिट में रखा गया है। डाक्टर पी.के. गोयल ने कहा कि चिन्मयानंद के स्वास्थ्य का बुलेटिन जल्द ही जारी किया जायेगा। एसआईटी के प्रमुख और पुलिस महानिरीक्षक नवीन अरोड़ा ने आज ही उच्च न्यायालय में प्रगति रिपोर्ट दाखिल की है। प्रगति रिपोर्ट में पेन ड्राइव और अन्य सबूत पेश किये गये हैं। एसआईटी ने पीडित छात्रा और उसके तीन अन्य साथियों के खिलाफ ब्लैकमेलिंग और जबरन वसूली के आरोप में प्राथमिकी दर्ज की है। छात्रा के तीन साथियों को गिरफ्तार भी किया जा चुका है। छात्रा ने इलाहाबाद उच्च न्यायालय में अग्रिम जमानत की अर्जी दी थी जिसे न्यायालय ने ठुकरा दिया और संबंधित कोर्ट यानि शाहजहांपर की अदालत में अर्जी देने को कहा है। गिरफ्तारी की तलवार उस पर भी लटक रही है। छात्रा और उसके साथियों ने चिन्मयानंद से पांच करोड़ रूपए की मांग की थी। उच्च न्यायालय ने कहा कि वो एसआईटी जांच की पूरी निगरानी करेगी। चिन्मयानंद को पिछले शुक्रवार की सुबह गिरफ्तार कर शाहजहांपुर के मुख्य न्यायाधीश ओमवीर सिंह की अदालत में पेश किया गया था, जहां से उन्हें 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया। एसआईटी के अनुसार बलात्कार के अलावा अपने ऊपर लगे सभी आरोप चिन्मयानंद ने रूवीकार कर लिये थे। चिन्मयानंद ने कहा था कि वो अपने किये पर शर्मिंदा हैं।

Share it
Top