पत्नी से हंसकर बात करने पर पति ने करवाई थी दर्जी की हत्या, छह गिरफ्तार, दो लाख रुपये की दी थी सुपारी

पत्नी से हंसकर बात करने पर पति ने करवाई थी दर्जी की हत्या, छह गिरफ्तार, दो लाख रुपये की दी थी सुपारी



झांसी। नवाबाद थाना क्षेत्र में 21 दिन पूर्व हुए दर्जी के अपहरण व हत्या का खुलासा पुलिस ने कर दिया है। पुलिस ने पड़ोसी युवक समेत छह लोगों को गिरफ्तार किया है। हत्या का कारण दर्जी का पड़ोसी युवक की पत्नी से बातचीत करना बताया जा रहा है।

वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक डॉ. ओपी सिंह ने बताया कि नवाबाद इलाके में रहने वाला संजय जोशी दर्जी था। 20 जून को वह अर्टिगा अम्बाबॉय एसआर कॉलेज में छात्रों की ड्रेस की नाप लेने की बात कहकर निकला और वापस नहीं लौटा। इस पर उनकी पुत्री उर्वशी ने गुमशुदगी दर्ज कराते हुए पड़ोसी ओमप्रकाश पर आरोप लगाया। अपने पिता की सकुशल बरामदगी के लिए पुलिस से चार दिन तक उर्वशी गुहार लगाती रही। इसके बाद 25 जून को मामले की गंभीरता को देखते हुए पुलिस ने मामले को अपहरण मानते हुए उस पर तफ्तीश शुरू की।

बीते रोज पुलिस ने पड़ोसी ओमप्रकाश साहू को हिरासत में लेकर पूछताछ की तो घटना खुलासा हो गया। पुलिस को ओमप्रकाश साहू ने बताया कि संजय जोशी अपनी पत्नी के साथ माता के मंदिर दर्शन करने आता था। वह भी अपनी पत्नी के साथ उसी मंदिर जाता था। दोनों की मुलाकात होने के बाद अक्सर उसकी पत्नी संजय जोशी के साथ हंसकर बात करती थी। इस बात पर संजय और ओमप्रकाश के बीच कहासुनी हो गई। संजय ने ओमप्रकाश को खूब-खरी खोटी सुनाई। उसकी काफी बेइज्जती हुई।

इसका बदला लेने के लिए ओमप्रकाश ने योजना के तहत अपने साढ़ू भाई के दोस्त काके उर्फ गुरविन्दर को बुलाया। दो लाख रुपये में संजय जोशी की हत्या सुपारी ओमप्रकाश ने दे दी। इसके बाद घटना वाले दिन काके उर्फ गुरविन्दर, विनय त्रिपाठी, लकी व चालक जगत उर्फ रक्कू उर्फ फौजी ने मिलकर अर्टिगा अम्बाबॉय एसआर कॉलेज में ड्रेस का नाप लेने के बहाने संजय को ले जाकर तौलिए से गला दबाकर व सिर पर पत्थर पटककर हत्या कर दी।

इसके बाद उसका शव ठिकाने लगाने के लिए कार से ले जाकर मध्य प्रदेश के सतना स्थित थाना नागोड क्षेत्र में फेंक दिया। उससे पहले उसके कपड़े भी उतार लिए थे।

एसएसपी ने बताया कि संजय जोशी की हत्या ओमप्रकाश, गुरुविन्दर सिंह उर्फ काके, लकी, विनय त्रिपाठी, संजीव राजपूत और राकेश रक्कू फौजी को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है। वहीं घटना का खुलासा करने वाली टीम को डीआईजी की ओर से 25 हजार और एसएसपी की ओर से 15 हजार का इनाम दिया गया है।


Share it
Top