विंध्यनगरी ने जोशीले अंदाज में किया प्रियंका का इस्तकबाल...प्रियंका ने एक महिला का हाथ अपने हाथ में लिया, जिससे उस महिला की आंखें खुशी के आंसू से छलछला गई

विंध्यनगरी ने जोशीले अंदाज में किया प्रियंका का इस्तकबाल...प्रियंका ने एक महिला का हाथ अपने हाथ में लिया, जिससे उस महिला की आंखें खुशी के आंसू से छलछला गई

मिर्जापुर। उत्तर प्रदेश में कांग्रेस की जड़ों को सींच कर लोकसभा चुनाव में पार्टी के पक्ष में माहौल बनाने निकली कांग्रेस महासचिव एवं पूर्वांचल की प्रभारी प्रियंका गांधी वाड्रा का मंगलवार को विंध्यनगरी मिर्जापुर में जोशीले अंदाज में इस्तकबाल किया गया। सड़क के दोनों ओर खड़े समर्थकों ने हाथ हिलाकर कांग्रेस नेत्री का अभिवादन किया। प्रियंका ने काफिले से निकल कर जगह-जगह लोगों से सीधा संवाद स्थापित किया और कहा 'यह देश आप का है। लोकतंत्र आपका है, राजनीति आपकी है, वोट आपका है, इसका सही तरीके से इस्तेमाल करें। भटौली गांव में प्रियंका महिलाओं और बच्चों के साथ उत्साह के साथ मिली। निषाद मल्लाह, बाहुल्य इस गांव की महिलाएं प्रियंका को अपने बीच पाकर खुश थी। प्रियंका ने एक महिला का हाथ अपने हाथ में लिया, जिससे उस महिला की आंखें खुशी के आंसू से छलछला गयी। उन्होंने महिलाओं से उनकी समस्याओं के विषय में बातचीत की। जलमार्ग से आज उनका कार्यक्रम बदलकर सडक मार्ग से हो गया। उनका काफिला विन्ध्याचल से शहर मार्ग की ओर गुजरा, वैसे उनके शहर में कई कार्यक्रम निर्धारित किये गये थे। समयाभाव और सुरक्षा की दृष्टि से उनके सारे कार्यक्रम निरस्त कर दिये गये। उन्हें जिला कचहरी में अधिवक्ताओं के बीच में जाना था। सुबह से अधिवक्ता प्रियंका की प्रतीक्षा कर रहे थे, पर उनका कार्यक्रम निरस्त होने से उनके हाथ निराशा लगी। रमईपट्टी चैराहे पर वकीलों सहित तमाम नागरिक जुट गये थे। प्रियंका अपने स्वभाव के अनुरूप काफिले से निकलकर लोगों और अधिवक्ताओं के बीच जा पहुॅॅची। अधिवक्ताओं ने अपनी समस्याओं के पत्रक भी सौंपे। अधिवक्ताओं से उन्होंने कांग्रेस के साथ जुडने की अपील की। जिस मार्ग से प्रियंका का काफिला गुजर रहा था। छत पर एवं सड़क के किनारे भारी संख्या में लोग उनकी एक झलक पाने के लिए बेताब नजर आये। भीड़ को प्रियंका ने भी निराश नही किया। भले ही उनका कार्यक्रम पॉच घण्टे विलम्ब से चल रहा था, पर मिर्जापुर जिले की सीमा में प्रवेश करते हुए जगह-जगह के इक_े जन समुदाय के बीच निर्भिकता पूर्वक पहुॅची। बच्चों और महिलाओं से संवाद करने में उन्होंने विशेष रूचि दिखाई। भटौली गांव के बाद उनका काफिला चुनार की ओर कूच कर गया। बाबु देवकीनन्दन के तिलिस्म, उपन्यास की चन्द्रकांता के प्रसिद्ध चुनारगढ़ में आज उनका रात्रि विश्राम का कार्यक्रम है। वे कल सुबह वाराणसी के लिए प्रस्थान करेंगी। प्रियंका के क्षण प्रतिक्षण बदलते कार्यक्रम से जहॉ जिला प्रशासन के लोग परेशान दिखे, वहीं आमजन के बीच प्रियंका के कार्यक्रमो की अनिश्चिता का प्रभाव स्पष्ट दिखाई पड़ा। भदोही जिले के सीतामढ़ी तक गंगा में जल यात्रा के बाद आज अचानक उनकी पूरी यात्रा का कार्यक्रम सडक मार्ग से हो गया।

Share it
Top