बीएचयू में दूसरे दिन भी घंटों हिंसका, तनाव के मद्देनजर पुलिस बल तैनात

बीएचयू में दूसरे दिन भी घंटों हिंसका, तनाव के मद्देनजर पुलिस बल तैनात

वाराणसी काशी हिंदू विश्वविद्यालय (बीएचयू) में सोमवार को भी छात्रों के दो गुटों के बीच घंटों हिंसक झड़पें हुईं । विश्वविद्यालय परिसर में तनावपूर्ण शांति है और वहां एहतियातन बड़ी संख्या में पुलिस बल तैनात किया गया हैं। विश्वविद्यालय के सूत्रों ने बताया कि रविवार को शुरु हुई हिंसक घटनाओं का दौर रुक-रुक कर सोमवार देर शाम तक जारी रहा। विश्वविद्यालय के एमफी थियेटर मैदान में आयोजित अंतर संकाय युवा महोत्सव 'स्पंदन' में कुछ छात्रों ने गमछे से चेहरा ढ़कर उत्पात किया। वे अपने हाथों में लोहे के रॉड एवं डंडे लेकर एक-दूसरे पर टूट पड़े। कई छात्र घायल हैं। यहां भगदड़ की स्थिति उत्पन्न हो गई और कार्यक्रम का आनंद लेने आये छात्र-छाताएं इधर-उधर भागने लगे। उन्होंने बताया कि कार्यक्रम स्थल के बाद बहुत से छात्र बिड़ला छात्रावास के सामने की सड़क पर जमा होकर रविवार रात की तरह फिर एक दूसरे सोमवार को भी जमकर पथराव किया। पुलिस एवं विश्वविद्यलय के सुरक्षाकर्मियों ने उन्हें डराने का प्रयास किया, लेकिन उन पर कोई असर नहीं हुआ और वे लगातार उत्पात मचाते रहे। उन्होंने बताया कि उत्पात करने वाले कई संदिग्ध छात्रों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जा रही है। सूत्रों ने बताया कि रविवार को विश्वविद्यालय के पंडित ओंकार नाथ ठाकुर सभागर में आयोजित अंतर संकाय युवा महोत्सव 'स्पंदन' के दौरान दो छात्रों के आपासी विवाद के बाद देर रात बिड़ला छात्रावास के कई छात्र आपास में भिड़ गए। विवाद बढ़ने के बाद छात्र सड़कों पर आ गए। पुलिस एवं विश्वविद्यालय के सुरक्षा कर्मियो की मौजूदगी में छात्रों के दो गुटों ने देर रात तक एक-दूसरे पर पथराव किया। छात्रावास के कई कमरों में तोड़फोड़ की गईं। घटना में कम से कम छह छात्र घायल हो गए। आरोप है कि उत्पात मचाने वालों में शामिल कईयों ने पेट्रोल बम से एक दूसरे पर हमला किया। उन्होंने बताया कि छात्रों को शांत करने के लिए विश्वविद्यलय की प्रॉक्टर प्रो0 रोयना सिंह यहां के सुरक्षाकर्मियों और कई थानों एवं पीएसी के जवानों के साथ मौके पर पहुंचीं। उन्होंने छात्रों को समझाने की कोशिश की लेकिन घंटों उन पर असर नहीं हुआ।

Share it
Top