भाजपा विधायक की अभद्रता के चलते सरकारी डाक्टर ने दिया इस्तीफा

भाजपा विधायक की अभद्रता के चलते सरकारी डाक्टर ने दिया इस्तीफा

शाहजहांपुर उत्तर प्रदेश के शाहजहांपुर में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) विधायक रोशनलाल वर्मा ने एक बार फिर से सुर्खियों में हैं और इस बार उन पर आरोप है कि पेंशन शिविर में एक दिव्यांग व्यक्ति का नियम विरुद्ध जाकर प्रमाणपत्र बनाने से इंकार करने पर शिविर में सरकारी नेत्र चिकित्सक आदित्य आर्य से जमकर अभद्रता की थी। विधायक की अभद्रता से क्षुब्ध होकर श्री आर्य ने इस्तीफा दे दिया है। वहीं, जिले के अन्य डॉक्टरो ने भी बुधवार को भाजपा विधायक की कार्यप्रणाली को लेकर नाराजगी व्यक्त करते हुए आरोपी विधायक को तीन दिन का अल्टीमेटम देते हुए कहा कि यदि उन्होंने माफी नहीं मांगी तो वह सभी वे हड़ताल पर चले जाएंगेसूत्रों के अनुसार निगोही में पेंशन शिविर का आयोजन किया गया था। शिविर में आये एक दिव्यांग व्यक्ति की एक आंख खराब थी। जांच के बाद उसकी दृष्टि में 30 प्रतिशत की कमी पाये जाने पर जांच रिपोर्ट के आधार पर दिव्यांग प्रमाण पत्र जारी किया किया जा रहा था। आरोप है कि इसी बीच तिलहर क्षेत्र से भाजपा विधायक रोशनलाल वर्मा ने नेत्र चिकित्सक डॉ आदित्य आर्य पर उक्त व्यक्ति का 40 प्रतिशत से अधिक की दिव्यांगता का प्रमाणपत्र बनाया जाने का दबाव बनाना लगे जब। जब नेत्र चिकित्सक दबाब में न आते हुए भाजपा विधायक को मना कर दिया तो उन्होंने सार्वजनिक रूप से सबके सामने उनसे अभद्रता की। वहीं, भाजपा विधायक द्वारा की गई अभद्रता से नाराज डॉ आदित्य आर्य ने अपना इस्तीफा सीएमओ को सौंप दिया था। बुधवार को जिला अस्पताल के सभी डॉक्टरों ने बैठक की और डॉक्टरों के साथ हो रही अभद्रता और मारपीट की घटनाओं पर आक्रोश व्यक्त किया और डीएम को सामूहिक रूप से इस्तीफा देते हुए तीन दिन के अंदर आरोपी विधायक से माफी मांगने का अल्टीमेटम दिया है। इस बीच सीएमओ आर पी रावत ने बताया कि, आज डॉक्टरों द्वारा सशर्त इस्तीफा एवं ज्ञापन सौंपा गया है। लेकिन उनको समझाते हुए काम करने के लिए कहा गया था । डॉक्टरों द्वारा काम किया जा रहा है। वहीं, डॉ आदित्य आर्य के इस्तीफे पर भी कोई निर्णय नहीं लिया गया है। मामले की भी जांच की जा रही है।

Share it
Top