एससी/एसटी एक्ट का दुरूपयोग बर्दाश्त नहीं: बृजलाल

एससी/एसटी एक्ट का दुरूपयोग बर्दाश्त नहीं: बृजलाल

लखनऊ। उत्तर प्रदेश अनुसूचित जाति/जनजाति आयोग ने मथुरा में दलित उत्पीडऩ की एक झूठी घटना को संज्ञान में लेते हुए पुलिस को कडी कार्रवाई करने का आदेश दिया और मामले की प्रगति रिपोर्ट 26 सितम्बर तक पेश करने को कहा है।

आयोग के अध्यक्ष बृजलाल ने शुक्रवार को कहा कि मथुरा में नौहझील क्षेत्र के भैरई गांव में करीब दो महीने पहले एक बालक की हत्या कर दी गई थी। मृतक के परिजनों ने हत्या का आरोप एक ब्राहमण परिवार पर लगाया था। एससी/एसटी एक्ट के तहत परिजनों ने आरोपी परिवार से चार लाख साढे 12 हजार रूपये की पहली किश्त भी हासिल कर ली थी, लेकिन बाद में पुलिस की जांच में बालक के हत्यारे उसकी मां गुड्डी देवी और चाचा आकाश निकले थे। अवैध संबंधों के चक्कर में बालक की हत्या की गयी थी। उन्होंने बताया कि आयोग ने एससी/एसटी एक्ट के दुरूपयोग की घटना को गंभीरता से लेते हुए पुलिस को निर्देशित किया है कि न्यायालय में इस मामले की पैरवी गंभीरता से करे, ताकि आरोपियों को उनके अंजाम तक पहुंचाया जा सके। साथ ही झूठा आरोप लगाने वाली महिला से हड़पी गयी रकम को ब्राहमण परिवार को वापस करना जिलाधिकारी सुनिश्चित करे। मथुरा पुलिस को घटना के पर्दाफाश करने के लिये बधाई देते हुए श्री बृजलाल ने कहा कि अनुसूचित जाति/जनजाति (अत्याचार निवारण) अधिनियम का दुरूपयोग किसी भी सूरत में बर्दाश्त नहीं किया जायेगा।

Share it
Share it
Share it
Top