महामिलावटी गठबंधन का खेल खत्म: मोदी...कहा- खुद की परवाह करने वालों को देश की सुरक्षा की कोई चिंता नहीं

महामिलावटी गठबंधन का खेल खत्म: मोदी...कहा- खुद की परवाह करने वालों को देश की सुरक्षा की कोई चिंता नहीं

कन्नौज। समाजवादी पार्टी के गढ़ कन्नौज में राष्ट्रवाद के साथ-साथ जातिगत समीकरणों को साधते हुए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा कि खुद में प्रधानमंत्री का अक्श ढूंढऩे वालों के पास देश की सुरक्षा एवं गरीबों के विकास की कोई योजना नहीं है। कन्नौज के तिर्वा में मां अन्नपूर्णा मेला मैदान पर चुनावी जनसभा को संबोधित करते हुए श्री मोदी ने शनिवार को कहा कि तीसरे चरण का मतदान खत्म होते होते महामिलावटी गठबंधन का खेल खत्म हो गया। जनसभाओं में उमड़ रही भीड़ ने अवसरवादियों और महामिलावटियों के होश उडा दिये है, जिसके बाद बौखला कर ये लोग अब मेरी जाति प्रमाणित करने में जुट गये है। यह पहली बार नहीं है, जब विरोधियों ने मुझे गाली दी हो। इससे पहले के चुनाव में भी दो तीन चरणों के बाद विपक्षी मुझे नीचा दिखाने के लिये सारी मर्यादायें तोड़ते आये हैं। उन्होंने कहा कि मैं कभी भी जाति के नाम पर राजनीति का पक्षधर नहीं रहा। जब तक मेरे विरोधियों ने मुझे गाली नहीं दी, इस देश को पता ही नहीं था कि मेरी जाति कौन सी है, लेकिन अब मैं बहन जी, अखिलेश जी और कांग्रेस का आभारी हूं कि वे मेरे पिछड़ेपन की चर्चा कर रहे हैं। आपके लिए पिछड़ी जाति में पैदा होना राजनीति का खेल होगा, मेरे लिए मां भारती की सेवा करने का सौभाग्य है। मेरी जाति इतनी छोटी है कि गांव में इस जाति का एक आध घर भी नहीं होता है। मैं तो सिर्फ इतना चाहता हूं कि पूरे देश के अगड़ी और पिछड़ी जाति के लोग आगे हो, ताकि देश का विकास संभव हो सके। श्री मोदी ने कहा कि विपक्ष के लोग एक दूसरे को प्रधानमंत्री का दावेदार बताकर अपना हित साध रहे हैं। इन्हे स्वयं के परिवार की चिंता है। देश के विकास में बाधक आतंकवाद से निपटना इनके बूते की बात नहीं है बल्कि ये लोग सर्जिकल स्ट्राइक जैसी सेना की कार्रवाई पर भी सवाल खड़े करते है। इस मामले में इनको पाकिस्तान के दावों में सच्चाई नजर आती है। यह बलिदानियो तपस्वियों का देश है जो किसी भी स्थिति में भारत के स्वाभिमान और सुरक्षा से समझौता नहीं करते। भारत आतंकियों का सबसे बडा टारगेट है। पाक में आतंक की फैक्ट्रियां चल रही है। इससे निपटने के लिये सपा बसपा के पास कोई फार्मूला है क्या। प्रधानमंत्री ने कहा कि सपा-बसपा वाले बतायें कि आतंकवाद से डरते हैं या उन्हें बचाने के लिये बैठे हंै। ये पाक के झूठ को सच मानते है। सर्जिकल स्ट्राइक को झूठ मानते हैं। दरअसल, आतंकियों के साथ हमदर्दी जता कर ये अपने परिवारों का भविष्य देख सकते हंै। इन्हें देश के भविष्य की चिंता नहीं है। उन्हें पता होना चाहिये कि नया हिन्दुस्तान अब डरेगा नहीं। नया हिंदुस्तान आतंकियों के घर में घुसकर मारेगा। जब देश की सीमायें सुरक्षित रहेंगी तभी देश ठीक से चलेगा। यही कारण है कि 23 मई को इतिहास बनने वाला है।

Share it
Top