कृपाण पर लगाई गई पाबंदी असंवैधानिक: बडूंगर

कृपाण पर लगाई गई पाबंदी असंवैधानिक: बडूंगर

अमृतसर। शिरोमणी गुरुद्वारा प्रबंधक समिति के प्रधान प्रो किरपाल सिंह बडूंगर ने कर्नाटक सरकार द्वारा सिखों के धार्मिक चिन्न कृपाण पहनने पर लगाई गई पाबंदी की कड़े शब्दों में निंदा करते हुए इसे असंवैधानिक कार्रवाई बताया। प्रो बडूंगर ने आज यहां कहा कि भारतीय संविधान की धारा 25 के तहत धर्म की आजादी के नियमों अनुसार सिखों को समूचे भारत में कृपाण पहनने की छूट मिली हुई है। कृपाण सिखों का धार्मिक चिन्न और अटूट अंग है। उन्होंने कहा कि देश में अलग-अलग स्थानों पर सिखों की धार्मिक आजादी का पर लगाई जा रही पाबंदिया असंवैधानिक है। प्रो बडूंगर ने कहा कि केंद्र और पंजाब सरकार इस मामले की गंभीरता को समझते हुए संजीदगी के साथ कदम उठाए जिससे कर्नाटक सरकार के बरताव के कारण सिखों में फैल रही पक्षपात की भावना खत्म हो सके। उन्होने कहा कि जल्द ही शिरोमणी समिति इस मसले सम्बन्धित कर्नाटक सरकार से बातचीत करेगी और प्रधान मंत्री श्री नरिन्दर मोदी को पत्र भी लिखा जायेगा। प्रो बडूंगर ने केंद्र सरकार से अपील करते हुए कहा कि कर्नाटक में कृपाण पर लगी पाबंदी को तुरंत हटाने के लिए कार्यवाही की जाये और आगे से ऐसी कार्यवाहियों को रोकने के लिए ठोस उपाए किये जाएँ।

Share it
Top