भगोड़े एनआरआई दूल्हों के लिए बने सख्त कानून: स्वाति

भगोड़े एनआरआई दूल्हों के लिए बने सख्त कानून: स्वाति

चंडीगढ़। दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति जयहिंद ने आज मांग की कि भारतीय लडकियों से शादी करने के बाद उन्हें छोडकर विदेश भाग जाने वाले प्रवासी भारतीय (एनआरई) दूल्हों के लिए सख्त कानून बनना चाहिये। सुश्री स्वाति ने आज यहां प्रेस कांफ्रेस में बताया कि हरियाणा में भी लड़कियों के साथ एनआरआई दूल्हों द्वारा शादी करके उन्हें छोड़कर चले जाने के काफी मामले आ रहे है। उन्होंने कहा कि इस संदर्भ में उन्होंने हरियाणा महिला आयोग की अध्यक्ष को पत्र लिखकर ऐसे मामलों की विस्तृत जानकारी मांगी है। सुश्री स्वाति ने बताया कि केंद्रीय विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने एनआरआई मैरिज डिस्प्यूट को दूर करने को लेकर एक कमेटी का गठन किया है जिसमें उन्हें भी सदस्य बनाया गया है। इसलिए वे हरियाणा और पंजाब में ऐसे मामलों के बारे में जानने के लिए चंडीगढ़ आयी हैं। उन्होंने बताया कि वर्तमान में जो कानून है उनके तहत यदि कोई एनआरआई दूल्हा किसी लड़की के साथ शादी करके उसे छोड़ कर विदेश चला जाता है तो उसे अपने देश में वापस लाना बहुत मुश्किल है। इसलिए देश में शादी करके लड़की को छोड़ कर विदेश भागने वाले एनआरआई दूल्हों को सजा दिलाने के लिए एक सख्त कानून की आवश्यकता है। उन्होंने बताया कि हरियाणा के कुरुक्षेत्र, कैथल, करनाल, हिसार के जिलों के लोग इस समय विदेश में अधिक रहते हैं। जिसके चलते इन जिलों में एनआरआई शादियों के नाम पर हो रही धोखाधड़ी होने की संभावना है। उन्होंने कहा कि पंजाब की तरह पूरे देश में एनआरआई आयोग होने चाहिए और ये राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग की तर्ज पर शक्तिशाली होने चाहिए। उन्होंने कहा कि एक एनआरआई आयोग राष्ट्रीय स्तर पर होना चाहिए और सभी शादियां रजिस्टर्ड होनी चाहिए। सुश्री स्वाति ने बताया कि अपने कमेटी को अपनी रिपोर्ट देने से पहले हरियाणा और अन्य राज्यों में महिला आयोग तथा एनआरआई कमीशन आदि का दौरा कर रही हैं। उन्होंने बताया कि हरियाणा महिला आयोग द्वारा इस संबंध में रिपोर्ट भेजने के बाद और अन्य राज्यों से मिलने वाली शिकायतों के आधार पर वे अपनी रिपोर्ट विदेश मंत्रालय द्वारा बनाई गई कमेटी को भेजेंगी। सुश्री स्वाति ने लोगों से भी इस बारे में सुझाव भी मांगे हैं। उन्होंने कहा कि सुझाव ईमेल आईडी एनआरआई डॉट डीसीडब्ल्यू एट जीमेल डॉट कॉम पर भेजे जा सकते हैं। उन्होंने बताया कि हरियाणा के गुरुग्राम और फरीदाबाद सहित एनसीआर के कई जिलों से दिल्ली महिला आयोग के पास शिकायतें आती रहती हैं।

Share it
Top