अधिसूचित बैंकों को किसानों का 50 फीसदी रिण माफ करना चाहिए- कमलनाथ

अधिसूचित बैंकों को किसानों का 50 फीसदी रिण माफ करना चाहिए- कमलनाथ


नयी दिल्ली । मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ ने आज कहा कि अधिसूचित बैंकों को उद्योग जगत की तरह किसानों का भी 50 प्रतिशत रिण माफ कर देना चाहिए।

श्री कमलनाथ ने यहां नये मध्य प्रदेश भवन की आधारशिला रखने के मौके पर आयोजित कार्यक्रम से इतर यूनीवार्ता के साथ बातचीत में कहा , " किसानों ने 80 फीसदी रिण अधिसूचित बैंकों से लिया है। इन बैंकों ने एक मुश्त समाधान के तहत उद्योगपतियों और उद्योगों के 50 फीसदी रिण को माफ कर दिया है। यदि वे उद्योगों के लिए ऐसा कर सकते हैं तो किसानों के लिए क्यों नहीं? उन्हें किसानों के भी 50 फीसदी रिण माफ करने चाहिए। " उन्होंने कहा ," हमने यह (विधानसभा चुनाव के दौरान रिण माफ करने की)बात वैसे ही नहीं कही थी। इसमें बड़ा हिसाब-किताब किया गया था।

मध्य प्रदेश में भारतीय जनता पार्टी सरकार द्वारा शुरू की गयी भावांतर योजना के बारे में पूछे जाने पर कहा , " हमें कुछ बदलाव करना पड़ेगा क्योंकि इसमें कुछ समस्या है। " उन्होंने कहा कि राज्य के सामने सबसे बड़ी समस्या " बेरोजगारी" है। इंटरनेट आने के बाद युवा बहुत समझदार हो गया है और उसकी अपेक्षा बढ गयी है। हम युवाओं और किसानों को एक नयी दिशा देंगे।

नये भवन का शिलान्यास करते हुए श्री कमलनाथ ने कहा कि नई पीढ़ी में नई सोच और नई तड़प है, युवा वर्ग नई-नई जानकारियां और नये-नये आयामों को छूना चाहता है। सरकार युवाओं के लिए व्यवसाय के अनेकोनेक अवसर तलाश रही है। कृषि क्षेत्र और इससे जुड़े व्यवसाय को चुनौती बताते हुए उन्होंने कहा कि लगभग 70 प्रतिशत से अधिक लोग कृषि अथवा कृषि पर आधारित व्यवसाय से जुड़े हुए हैं। इनकी आमदनी को बढ़ाना जरूरी है।

उन्होंने कहा कि नया भवन नयी जरूरतों के अनुरूप बनेगा और अन्य प्रदेशों के लिए नज़ीर होगा। यह भवन आधुनिकता का प्रमाण होगा और आने वाले 50 सालों की जरूरतों को ध्यान में रखकर बनाया जायेगा। उन्होंने उम्मीद जतायी कि भवन के रखरखाव पर किसी भी प्रकार का कोई खर्चा सरकार पर बोझ नहीं होगा। भवन 'रेवेन्यू न्यूट्रल' के सिद्धांत पर होगा।

Share it
Top