मप्र के 44 नगरीय निकाय में मतदान शुक्रवार को, तैयारियां पूरी

मप्र के 44 नगरीय निकाय में मतदान शुक्रवार को, तैयारियां पूरी

भोपाल। मध्यप्रदेश के 44 नगरीय निकाय में 11 अगस्त को सुबह सात से शाम पांच बजे तक मतदान होगा। इसके लिए तैयारियां पूरी हो गई हैं। प्रदेश में सत्तारूढ़ भाारतीय जनता पार्टी (भाजपा) और मुख्य विपक्षी दल कांग्रेस ने चुनाव जीतने में अपनी ताकत झोंक दी है।
राज्य निर्वाचन आयुक्त आर परशुराम ने आज बताया कि शांतिपूर्ण मतदान के लिये सभी तैयारियां कर ली गयी हैं। सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किये गये हैं। मतदान केन्द्रों में मतदाताओं के लिये वाटरप्रूफ टेंट लगवाने के भी निर्देश दिये गये हैं। इसके साथ ही विभिन्न नगरीय निकाय में पार्षदों के उपचुनाव के लिये भी मतदान होगा। मतगणना 16 अगस्त को सुबह नौ बजे से होगी।
परशुराम ने बताया कि 44 नगरीय निकाय में अध्यक्ष पद के लिये 206 और पार्षद पद के लिये 2133 उम्मीदवार चुनाव मैदान में हैं। इसमें नगरपालिका परिषद 18 और नगर परिषद 26 हैं।
उन्होंने बताया कि इन 44 नगरीय निकाय में कुल आठ लाख 51 हजार 732 मतदाता हैं। इनमें से चार लाख 39 हजार 607 पुरुष, चार लाख 12 हजार 61 महिला और 64 अन्य मतदाता हैं। वार्डों की संख्या 780 और मतदान केन्द्रों की संख्या 1159 है।
परशुराम ने बताया कि मतदाता चुनाव एप के माध्यम से ई-मतदाता पर्ची प्राप्त कर सकते हैं। मतदान केन्द्र का पता कर गूगल एप पर रास्ता ढूंढ सकते हैं। उम्मीदवारों के बारे में जानकारी प्राप्त करने के साथ ही निर्वाचन परिणाम भी जान सकते हैं।
इसके साथ ही 5631 पंच, 74 सरपंच, 14 जनपद पंचायत सदस्य, तीन जिला पंचायत सदस्य के उप निर्वाचन एवं 356 पंच और 23 सरपंच के आम निर्वाचन के लिये भी 11 अगस्त को मतदान होगा। इनकी मतगणना भी 16 अगस्त को होगी।
चुनाव वाले अधिकतर नगरीय निकाय राज्य के आदिवासी बहुल इलाकों में है। राज्य में पिछले दिनों किसान आंदोलन और कुछ अन्य राजनीतिक कारणों से भाजपा और कांग्रेस दोनों ही दलों ने इन चुनावों में बेहतर करने के लिए अपने स्तर पर पूरी ताकत झोंक दी है।
राज्य की भाजपा सरकार इन चुनाव में विजय हासिल करने के लिए कोई कमी नहीं छोड़ रही है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने प्रचार की कमान अपने हाथों में ले रखी थी। उन्होंने 3 अगस्त से लेकर 9 अगस्त तक दर्जनों स्थानों पर जनसभाएं, रोड शो और जनसंपर्क किया। चुनाव वाले इलाकों में प्रदेश संगठन के पदाधिकारियों के अलावा जिला प्रभारी मंत्रियों और अन्य प्रभारी नेताओं को तैनात किया गया है।
वहीं मुख्य विपक्षी दल कांग्रेस के स्थानीय नेता और पदाधिकारियों ने चुनाव की कमान संभाल रखी है। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अरुण यादव और विधानसभा में विपक्ष के नेता अजय सिंह ने अनेक इलाकों का दौरा किया। सिंह लगातार चुनावी दौरे पर रहे और कई जगह जनसभाओं को संबोधित किया।

Share it
Top