व्यापमं महाघोटाला : सुरेश विजयवर्गीय को कोर्ट से फिर झटका

व्यापमं महाघोटाला : सुरेश विजयवर्गीय को कोर्ट से फिर झटका



जबलपुर। मध्यप्रदेश के व्यापमं महाघोटाले के आरोपी सुरेश विजयवर्गीय को एक बार फिर झटका दे दिया है। दरअसल कोर्ट ने सुरेश की जमानत याचिका एक बार फिर खारिज कर दी।
गौरतलब है कि सुरेश ने कोर्ट में अपनी गिरफ्तारी वारंट के खिलाफ लगाई याचिका लगाई थी, जिस पर कोर्ट ने अपना फैसला सुनाते हुए सुरेश की जमानत याचिका को खारिज कर दिया। आपको बता दें कि सुरेश विजयवर्गीय पीपुल्स मेडिकल कॉलेज के चेयरमैन हैं। सुरेश ने इससे पहले भी कोर्ट में अग्रिम जमानत की अर्जी लगाई थी, जिसे कोर्ट ने खारिज कर दिया था।
यह है मामला
बीते दिनों पीएमटी-2012 फर्जीवाड़े मामले में सीबीआई ने पीपुल्स ग्रुप के चेयरमैन सुरेश एस विजयवर्गीय को परीक्षा में गड़बड़ी के आधार पर आरोपी बनाया था। जिसके बाद सुरेश ने सीबीआई की विशेष अदालत की ओर से जारी गिरफ्तारी वारंट को चुनौती दी थी। इस पर गुरुवार को कोर्ट ने अपना फैसला सुनाया। इस मामले में चीफ जस्टिस हेमंत गुप्ता तथा जस्टिस विजयकुमार शुक्ला की डिवीजन बेंच ने मामले की सुनवाई की थी। सुरेश की तरफ से नई दिल्ली से आए वरिष्ठ अधिवक्ता शेखर नफाड़े और जबलपुर के अधिवक्ता अमलपुष्प श्रोती ने अपना पक्ष रखा था। सुरेश विजयवर्गीय ने अग्रिम जमानत के स्थान पर 482 की अर्जी के जरिए विशेष कोर्ट के आदेश को निरस्त करने की मांग की थी। जमानत अर्जी पर बहस पूरी होने के बाद सोमवार को कोर्ट ने फैसला सुरक्षित रख लिया था। उसके बाद कोर्ट ने गुरुवार को फैसला सुनाते हुए सुरेश विजयवर्गीय की जमानत अर्जी खारिज कर दी।
ये भी जानें
* पीएमटी-2012 मामले में सीबीआई ने स्पेशल कोर्ट में 592 आरोपियों के खिलाफ 1500 पन्नों की चार्जशीट पेश की थी।
* जांच एजेंसी ने पीपुल्स ग्रुप के चेयरमैन सुरेश एन. विजयवर्गीय, चिरायु के डॉ. अजय गोयनका, एलएन मेडिकल के जयनारायण चौकसे और इंडेक्स मेडिकल कॉलेज के सुरेश भदौरिया समेत 245 नए चेहरों को आरोपी बनाया था।
* इन सभी आरोपियों को कोर्ट में पेश होने के लिए सम्मन जारी किए गए थे।
* सुरेश विजयवर्गीय समेत 20 लोगों की ओर से अग्रिम जमानत अर्जी लगाई गई, जिसे कोर्ट ने खारिज कर दिया था।
* इससे पहले कोर्ट ने हाजिर 15 आरोपियों को जमानत दे दी।
* वहीं गैरहाजिर 200 के खिलाफ अरेस्ट वारंट जारी किया है।
हिन्दुस्थान समाचार/ संजीव

Share it
Top