एडल्‍ट वेबसाईट बनाकर करता था कॉलगर्ल सप्लाई, सायबर सेल ने धर-दबोचा

एडल्‍ट वेबसाईट बनाकर करता था कॉलगर्ल सप्लाई, सायबर सेल ने धर-दबोचा

भोपाल । मध्‍यप्रदेश के इंदौर शहर से अश्‍लील वेबसाईट संचालित कर कॉलगर्ल उपलब्‍ध कराने वाले आरोपी को राज्य सायबर सेल ने गिरफ्तार करने में सफलता हासिल की। सायबर पुलिस ने आरोपी को हरियाणा के पंचकुला से गिरफ्तार किया है। बताया जा रहा है कि आरोपी को पकड़ने में साइबर सेल को 6 महीने की कड़ी मश्‍कत करनी पड़ी।
जानकारी के अनुसार सायबर पुलिस ने हरियाणा के पंचकूला से एक ऐसे आरोपी को गिरफ्तार किया है जो ना सिर्फ वेब डेवलपर है बल्कि गूगल सर्च इंजिन ऑप्टोमाईजेशन के जरिये पलभर में पूरे विश्व की पहुंच में आ जाता था। इस मास्टरमाइंड को राज्य सायबर सेल इंदौर को अपनी गिरफ्त में लेने के लिए लगभग 6 महीने का समय लगा। पकड़ा गया आरोपी हर्षल झा सारंगपुर जिला राजगढ़ का निवासी है। 30 वर्षीय हर्षल झा ने अपने काम की शुरुआत मध्यप्रदेश के इंदौर से की थी।
पुलिस की पूछता में हर्षल ने बताया कि वह एबी रोड पर एक कॉल सेंटर में काम करता था। इस दौरान उसने 2014 में सागर जैन नाम के एक व्यक्ति से कॉलगर्ल बुलवाई थी, कुछ दिनों बाद इसने सागर के लिए एक अश्लील साइट बनाई। वेबसाइट पर दावा किया गया है कि वो दस देशों में कॉलगर्ल सप्लाई करती है। इस दौरान उसने इंदौर में सुबीना डॉट कॉम, सुबीना खान डॉट कॉम और रक्त सलूजा डॉट कॉम के नाम से देह व्यापार का दावा करने वाली एडल्ट वेब साइट्स बनाई। जिसके जरिये सागर जैन का जिस्मफरोशी का धंधा जमकर चला। इंदौर ही नही बल्कि विदेशों से भी यहां के ग्राहकों को एस्कॉर्ट सर्विस के जरिये कॉल गर्ल मुहैया कराई जाती थी। इसके लिए हर्षल एसीईओ की मदद से अधिक अधिक ऑनलाइन ग्राहक ढूंढता था। जिसके एवज में उसे दो वेबसाइट्स के लिए 10 - 10 हजार रुपए मिलते थे।
हर्षल ने फेसबुक, ट्वीटर, वॉट्सएप पर एस्कार्ट सर्विसेज के ग्रुप बना रखे थे। आरोपी देहरादून की यूनिवर्सिटी ऑफ पेट्रोलियम एंड एनर्जी से बीटेक ग्रेजुएट है। साइबर सेल इंदौर इसे दो महीने से तलाश कर रही थी, जिसके बाद हरियाणा के पंचकुला में इसे गिरफ्तार कर लिया गया। यह इंग्लैंड, अमेरिका और आस्ट्रेलिया की अश्लील वेबसाइट के लिए जॉबवर्क कर चुका है।
राज्य सायबर सेल के पुलिस अधीक्षक इंदौर जितेंद्र सिंह ने बताया कि विवेचना के दौरान पता चला कि एस्कार्ट सर्विस प्रोवाइड कराने वाली वेबसाइट्स मौर्या हिल्स इंदौर के डेजी मौर्या गार्डन बंगला नंबर 405 से हर्षल नामक व्यक्ति द्वारा संचालित की जा रही है। जब पुलिस ने यहां दबिश दी तो वह अपने घर सारंगपुर चला गया। इस बीच हर्षल को उसके सारंगपुर के मित्र ने बताया कि पुलिस उसकी तलाश कर रही है तो उसी रात उसने निरंजनपुर स्थित एक फ्लेट में सामान रखवा दिया। हालांकि पुलिस की नजर उक्त फ्लेट पर थी और अचानक एक दिन हर्षल का सामान पैकर्स एंड मूवर्स के माध्यम से पंचकूला पहुँचाया गया। फिर क्या था पुलिस ने इस क्लू के आधार पर मास्टरमाइंड को पंचकूला से गिरफ्तार कर लिया।
पुलिस गिरफ्त में आए हर्षल पूछताछ में ये भी बताया है कि उसके द्वारा बनाई वेब को रन करने और खरीदने के लिए इंदौर के महालक्ष्मी नगर से किसी ने सम्पर्क किया था। फिलहाल ये मास्टरमाइंड पुलिस की गिरफ्त में है और अब कई खुलासे होने की उम्मीद भी जताई जा रही।

Share it
Top