घर में चल रही थी पटाखा फैक्टरी, धमाके में युवती सहित दो की मौत, तीन घायल

घर में चल रही थी पटाखा फैक्टरी, धमाके में युवती सहित दो की मौत, तीन घायल


गुना। पटाखे बनाने को लेकर मिले उच्च स्तरीय निर्देशों के बावजूद पुलिस और प्रशासन की अनदेखी के बीच शुक्रवार को एक पटाखा फैक्टरी में हुए जोरदार धमाके से एक युवती सहित दो लोगों की मौत हो गई। हादसा शहर के नदी मोहल्ला में हुआ, जहां घर में ही एक पटाखा फैक्टरी चल रही थी। दोपहर में यहां पटाखों से भरे एक बोरे में जोरदार धमाका हुआ, जिसकी गूंज दूर तक सुनने को मिली। धमाका इतना जबर्रदस्त था कि जहां पाँच लोग घायल हो गए, वहीं घर की छत उडऩे के साथ पंखे की पंखुडिय़ां तक मुड़ गईं। घायलों में एक 3-4 साल की मासूम बच्ची भी है।

विस्फोट से जहां एक पड़ोसी भी घायल हुआ है, वहीं पड़ोस के घरों को भी नुकसान पहुँचा है। हादसे की सूचना मिलने के बाद एसडीएम शिवानी रायकवार, सीएमओ संजय श्रीवास्तव आदि मौके पर पहुंचे और घायलों को उपचार के लिए जिला अस्पताल में भिजवाने की व्यवस्था की। जहां दो की गंभीर हालत के मद्देनजर उन्हें उच्च उपचार के लिए भोपाल भेजा गया। भोपाल ले जाते समय रास्ते में दोनों की मौत हो गई। हादसे के बाद मौके पर भारी हुजूम जमा रहा, रहवासियों में दहशत फैली हुई है। जहां यह विस्फोट हुआ है, वहां से कैन्ट थाना नजदीक ही है।

प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार रिहायशी इलाके में संकरी गली होने के कारण लोगों को बाहर निकलने में मशक्तत करनी पड़ी। वहां नगर पुलिस अधीक्षक संजय चतुर्वेदी खबर मिलने के बाद मय पुलिस फोर्स के पहुंचे तो वहां कई लोग वीडियो बनाते हुए दिखे जबकि आग बुझाने वालों की कमी दिखाई दी। संकरी गली होने की वजह से फायर ब्रिगेड के आने में देरी हो रही थी। सीएसपी संजय चतुर्वेदी ने भीड़ से मौके पर आग्रह किया कि आप लोग वीडियो बनाने की जगह आग बुझाने मेें मदद करो। यह सुनकर लोग अपने-अपने घरों से केन और बर्तन लेकर आए और पानी से आग बुझाने में मदद की। घायलों को लेने पहुंची एम्बुलेंस को भी संकरी गली होने की वजह से काफी परेशानी हुई, जिससे उनके उपचार में भी देरी हुई।

शहर के नदी मोहल्ला में शुक्रवार की दोपहर रोज की तरह चहल-पहल बनी हुई थी। इसी बीच एक जोरदार धमाका हुआ, जिसने मोहल्ले को हिलाकर रख दिया। विस्फोट इतना जोरदार था कि उसकी गूंज जहां दूर-दूर तक सुनाई दी तो लोगों के दिल दहल गए। लोग कुछ समझ ही नहीं पाए कि हुआ क्या है? लगा जैसे कोई बम फटा हो। धमाके की आवाज से दहशतजदा लोगों ने जब इसकी जानकारी ली तो पता चला कि धमाका मोहल्ले में ही स्थित एक घर में हुआ है। यह घर रमजू खान का था, जिसमें आतिशबाजी का सामान (पटाखे) बनाने का काम चलता था। लोगों को समझते देर नहीं लगी कि धमाके का कारण आतिशबाजी थी।

हादसे में पांच लोग घायल हुए, जिनमें जमीला बाई पत्नी रयजान खान, रुखसाद पत्नी अशफाक खान, समीर खान पुत्र रयजाद खान एवं महीरा पुत्री अशफाक खान हैं। सभी घायलों को उपचार के लिए जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया, जहां दो की गंभीर हालत के मद्देनजर उन्हे उच्च उपचार के लिए भोपाल भेजा गया। इनमें रुखसार और समीर शामिल हैं, जिनकी भोपाल ले जाते समय रास्ते में मौत हो गई।

एसडीएम ने माना अवैध थी फैक्टरी

अनुविभागीय अधिकारी (एसडीएम) शिवानी रायकवार ने चर्चा में बताया कि यहां अवैध रूप से पटाखे बनाए जा रहे थे, जिससे ये पूरा घटनाक्रम हुआ। विस्फोट से संबंधित इस पूरे मामले की जांच के लिए एक जांच टीम बना दी है, जिसकी रिपोर्ट आने पर नियमानुसार कार्रवाई की जाएगी।


Share it
Top