मप्र पीएससी की तैयारी करना है और पैसे नहीं तो कोई बात नहीं, आ जाएं सेंट्रल लाइब्रेरी

मप्र पीएससी की तैयारी करना है और पैसे नहीं तो कोई बात नहीं, आ जाएं सेंट्रल लाइब्रेरी


भोपाल । मध्य प्रदेश के प्रतिभावान विद्यार्थ‍ियों के लिए अच्‍छी खबर आई है। वैसे तो राज्‍य सरकार भी अपनी ओर से निशुल्‍क कोचिंग कक्षाएं उपलब्‍ध कराती है लेकिन ये कक्षाएं ज्‍यादातर मामलों में अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति के छात्रों के लिए होती हैं। पर इस बार भोपाल में सभी वर्ग से जुड़ी प्रतिभाओं के लिए जिन्‍हें राज्‍य प्रशासनिक सेवा में जाने की इच्‍छा है, उनके लिए कोचिंग क्‍लास चालू की गई है। जोकि सेंट्रल लाइब्रेरी में संचालित हैं, यह आगामी तीन माह तक चलेगी।

उल्‍लेखनीय है कि इसके लिए मौलाना आजाद सेंट्रल लाइब्रेरी एवं करियर पाथ इंस्टीट्यूट की ओर से तीन माह का कोर्स तैयार किया है, जिसमें राज्य सेवा परीक्षा की निःशुल्क तैयारी कराई जा रही है। प्रशासनिक सेवा की तैयारी करा रहे अजय जैन ने बताया कि यह कोर्स एक अगस्त से शुरू हुआ है, इसके लिए हमारे संयुक्‍त प्रयासों (मौलाना आजाद सेंट्रल लाइब्रेरी एवं करियर पाथ इंस्टीट्यूट) ने एक प्रतिभा चयन परीक्षा का आयोजन सेंट्रल लाइब्रेरी में 21 जुलाई को किया था। जिसमें कि 300 से भी अधिक छात्र-छात्राओं ने हिस्‍सा लिया था। इसके बाद अब नियमित कक्षाएं शुरू कर दी हैं।

इस संबंध में चयनित युवाओं को प्रशिक्षण दे रहीं सुनेह श्रीवास्तव का कहना है कि यदि अब भी किसी को लगता है कि उन्‍हें राज्‍य प्रशासनिक सेवा की तैयारी करनी है और उनके पास इसके लिए आर्थ‍िक अभाव है लेकिन वे योग्‍य हैं तो मौलाना आजाद सेंट्रल लाइब्रेरी या करियर पाथ इंस्टीट्यूट में संपर्क कर सकते हैं ।

मौलाना आजाद सेंट्रल लाइब्रेरी की ग्रंथपाल डॉ. वंदना शर्मा ने कहा कि कम समय से पूरी तैयारी कराने का प्रयास कर रहे हैं, वास्‍तव में समय को ध्‍यान में रखकर ही यह विशेष कोर्स तैयार किया गया है । उन्‍होंने बताया कि मेरे साथ इस कोर्स को रचित मालवीय ने बनाया है, इसकी विशेषता है कि तीन माह में प्रारंभिक परीक्षा की तैयारी होगी। सात फुल लेंथ टेस्ट होंगे। आगे मेंस परीक्षा की तैयारी भी विशेष तौर से कराई जाएगी ।

उल्लेखनीय है कि भोपाल के पुराने शहर की शासकीय मौलाना आजाद सेंट्रल लाइब्रेरी में 1 लाख 40 हजार किताबों का संग्रहण है। रोजाना एक हजार से ज्यादा स्टूडेंट्स पढ़ने पहुंचते हैं । यह प्रदेश की संभवत: एकमात्र ऐसी शासकीय लाइब्रेरी है, जहां इतनी बड़ी संख्या में युवा पढ़ाई करने आते हैं।


Share it
Top