साहित्यकार-शिक्षाविद कमला सक्सेना का निधन,मुख्यमंत्री, राज्यपाल व नेताओं ने जताया शोक

साहित्यकार-शिक्षाविद कमला सक्सेना का निधन,मुख्यमंत्री, राज्यपाल व नेताओं ने जताया शोक


- उनके पुत्र अनिल कुमार सक्सेना केंद्रीय रेलमंत्री पीयूष गोयल के हैं मीडिया सलाहकार

भोपाल। भोपाल की सुप्रसिद्ध साहित्यकार, शिक्षा विद, हिंदी सेविका विचारक, चिंतक एवं समाज सेविका कमला सक्सेना का 14 जुलाई रविवार रात को दुखद निधन हो गया। वे 88 वर्ष की थीं। अनिल कुमार सक्सेना, आईएएस (एलाइड) सेवा केंद्रीय रेलमंत्री पीयूष गोयल के मीडिया सलाहकार हैं। अनिल कुमार उनके चौथे नंबर के पुत्र हैं।

कमला सक्सेना एमए हिंदी, बीएड, साहित्य रत्न उपाधि से विभूषित थीं। वे शासकीय हमीदिया बालक हायर सेकंडरी स्कूल की प्राचार्या से सेवानिवृत हुईं थीं। उन्हें 1992 में भारत के राष्ट्रपति द्वारा शिक्षा में विशिष्ट योगदान के लिए राष्ट्रपति पुरस्कार से सम्मानित किया गया था। मंगलवार 16 जुलाई को उनके भोपाल जहांगीराबाद निवास ( तनुश्री अस्पताल कैम्पस) में उनका पार्थिव शरीर सुबह 9 से 11 बजे दर्शन के लिए रखा जाएगा। उसके बाद उनका पार्थिव शरीर भोपाल के गांधी मेडिकल कॉलेज को सौंप दिया जाएगा। बुधवार 17 जुलाई को शाम 4 से 5 निवास स्थान पर शांति पाठ रखा गया है।

कमला सक्सेना मध्यप्रदेश राष्ट्र भाषा प्रचार समिति, हिंदी भवन से आजीविका सक्रीय रूप से जुड़ी रहीं। उनकी लिखित 6 साहित्य पुस्तकें प्रकाशित हुईं -"आजादी के तराने" (काव्य संग्रह) , "गीत प्रगीत" ( काव्य संग्रह) , "प्रतिध्वनियां" (काव्य संग्रह), "ओ मन विहग" (काव्य संग्रह), "अभिव्यक्तियां" (गद्य पद्य) "भाव अभिषेक" (गद्य),। वे किशोरी के रुप में स्वतंत्रता आंदोलन की सभाओं में आजादी की कविताओं का पाठ करती थीं। कमला सक्सेना अपने पीछे भरा पूरा परिवार छोड़ गई है। उनके पुत्रों में एक डॉक्टर संजय सक्सेना, पूर्व सीएमओ गैस राहत हैं। दूसरे पुत्र डॉक्टर राजीव उज्जैन में चिकित्सक हैं, तीसरे पुत्र मनोज सक्सेना, वाइस प्रेसिडेंट, सिंगापुर बैंक हैं। चौथे पुत्र अनिल कुमार सक्सेना, आईएएस (एलाइड) सेवा से केंद्रीय रेलमंत्री पीयूष गोयल के मीडिया सलाहकार हैं। उनकी बहू भोपाल की जानीमानी महिला चिकित्सक डॉक्टर कुसुम सक्सेना हैं।

कमला सक्सेना को अपने जीवनकाल में कई पुरस्कारों एवं सम्मानों से नवाजा गया है। उन्हें अखिल भारतीय भाषा साहित्य सम्मेलन मध्यप्रदेश द्वारा "सरस्वती सम्मान" प्रदान किया गया। उनकी उपलब्धियों पर मध्यप्रदेश के राज्यपाल द्वारा नागरिक अभिनंदन भी किया गया। जीवनभर शिक्षा दान करने वाली कमला सक्सेना ने जीवन बाद नेत्र दान और देह दान की इच्छा प्रकट की थी, जो उनके परिजन पूरा कर रहे हैं। कमला सक्सेना के दुखद निधन पर भोपाल के राजनैतिक नेताओं, साहित्यकारों, कायस्थ समाज के अग्रणी प्रतिनिधियों ने गहरा शोक व्यक्त किया है। मध्यप्रदेश की राज्यपाल आनंदी बेन पटेल, मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ, पूर्व राज्यपाल मणिपुर अवध नारायण श्रीवास्तव, पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, मध्यप्रदेश सरकार के जनसंपर्क मंत्री पीसी शर्मा, पूर्व सांसद कैलाश सांरग, पूर्व सांसद आलोक संजर, पूर्व मंत्री एवं विधायक विश्वास सारंग, भोपाल मेयर आलोक शर्मा, पूर्व मेयर सुनील सूद, वरिष्ठ पत्रकार लज्जा शंकर हरदेनिया, मंत्री संचालक, मप्र राजभाषा प्रचार समिति कैलाश पंत, कर्मचारी नेता अजय श्रीवास्तव नीलू ने शोक व्यक्त किया है।


Share it
Top