गरीब परिवार से हैं एमपी बोर्ड की दसवीं का टॉपर गगन व आयुष्मान

गरीब परिवार से हैं एमपी बोर्ड की दसवीं का टॉपर गगन व आयुष्मान

सागर।मध्यप्रदेश माध्यमिक शिक्षा मंडल (एमपी बोर्ड) द्वारा बुधवार को कक्षा दसवीं और बारहवीं के परीक्षा परिणाम एक साथ घोषित किये गये। कक्षा दसवीं में 500 अंकों में से 499 अंक हासिल कर दो छात्रों ने मेरिट सूची में पहला स्थान प्राप्त किया है। दोनों ही विद्यार्थी सागर जिले के हैं और गरीब परिवार से आते हैं। मुश्किल परिस्थितियों में अपने कड़े परिश्रम से यह मुकाम हासिल करने वाले सागर जिले के ग्राम गौरझामर स्थित सरस्वती शिशु मंदिर में पढ़ने वाले गगन दीक्षित के पिता राजेश दीक्षित एक किसान हैं, जबकि सागर के शासकीय उत्कृष्ट विद्यालय में पढ़ने वाले आयुष्मान ताम्रकार के पिता विमल ताम्रकार चौकीदारी करते हैं।

स्कूल से मिली जानकारी के अनुसार गौरझामर निवासी गरीब किसान के बेटे गगन दीक्षित ने घर की आर्थिक स्थिति ठीक नहीं होने के बावजूद दसवीं में टॉप करके न केवल अपनी योग्यता और क्षमता साबित की, बल्कि वह उन छात्रों के लिए प्रेरणास्रोत भी बना, जिन्हें पढ़ाई की सभी सुविधाएं उपलब्ध होती हैं, इसके बावजूद वे अपने अभिभावकों को निराश करते हैं। गगन का कहना है कि उसने अपनी पढ़ाई के प्रति जुनून से यह मुकाम हासिल किया है। वहीं सागर के आयुष्मान ताम्रकार की कामयाबी भी किसी सपने से कम नहीं है। उसके पिता चौकीदारी का काम करते हैं। माता-पिता पर अपनी चार संतानों की जिम्मेदारी है, जिनमें आयुष्मान की दो बड़ी बहनों और एक छोटा भाई शामिल है। आयुष्मान को अपनी स्कूल की फीस जुटाने के लिए दुकान पर काम करना पड़ता है। इसके अलावा वह माता-पिता के काम में भी हाथ बंटाता है और पिता की गैरमौजूदगी में उसे चौकीदारी करने भी जाना पड़ता है। ऐसे में उसे पढ़ाई के लिए समय निकालना बहुत मुश्किल होता था, लेकिन वह दूसरे बच्चों को पढ़ते देख उनसे प्रेरणा लेता और रात-रात भर जागकर पढ़ाई करता। अपनी कड़ी मेहनत का उसे फल मिला और दसवीं की मेरिट में पहला स्थान पाने में सफलता हासिल की।



Share it
Top