मध्यप्रदेश में विपक्षी दलों के बंद का मिला-जुला असर

मध्यप्रदेश में विपक्षी दलों के बंद का मिला-जुला असर



भोपाल।मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल समेत समूचे प्रदेश में आज विपक्षी दलों के बंद का मिला-जुला असर रहा। राजधानी भोपाल में कांग्रेस कार्यकर्ता स्थान-स्थान पर घूमते हुए बाजार और दुकानें बंद कराते देखे गए। भोपाल में आज लगभग सभी स्कूल और कॉलेज खुले, जिसके चलते सुबह सड़कों पर बसों की आवाजाही काफी रही।

प्रदेश की व्यावसायिक राजधानी इंदौर में बंद का असर देखने को मिल रहा है। यहां बड़ी संख्या में कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने काले कपड़े पहनकर प्रदर्शन किया। कांग्रेस के पैदल मार्च में कार्यकर्ताओं ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के मुखौटे लगाकर प्रदर्शन किया। कांग्रेस कार्यकर्ता व्यापारियों को फूल देकर उनके प्रतिष्ठान बंद करने की अपील कर रहे हैं।

इंदौर से सटे देवास में बंद का व्यापक असर रहा। ज्यादातर दुकानदारों ने किसी भी अप्रिय स्थिति से बचने के लिए अपनी दुकानें बंद रखीं।

ग्वालियर में भी बंद का मिला-जुला असर देखा जा रहा है। यहां छह सितंबर को सवर्णों के बंद के पहले से लागू धारा 144 अब भी लागू है, जिसके चलते चप्पे-चप्पे पर पुलिस का पहरा है। ग्वालियर में ज्यादातर स्कूलों में आज छुट्टी कर दी गई है।

मध्यप्रदेश में कांग्रेस की चुनाव अभियान समिति के अध्यक्ष ज्योतिरादित्य सिंधिया के संसदीय क्षेत्र शिवपुरी में भी ज्यादातर दुकानें, व्यावसायिक प्रतिष्ठान अैर पेट्रोल पंप बंद रखे गए हैं। कांग्रेस कार्यकर्ता घूम-घूम कर बाजार बंद करा रहे हैं।

सागर में भी धारा 144 लागू है, जिसके चलते पुलिस ने सड़कों पर प्रदर्शन कर रहे कई कांग्रेस कार्यकर्ताओं को हिरासत में ले लिया। सागर में स्कूल खुले हैं, लेकिन बस संचालकों द्वारा दोपहर में छुट्टी के समय बसों के स्कूल नहीं पहुंचने की चेतावनी के कारण अभिभावकों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।

कांग्रेस की प्रदेश इकाई के अध्यक्ष कमलनाथ के संसदीय क्षेत्र छिंदवाड़ा में बंद का व्यापक असर देखने को मिल रहा है। यहां के सभी बाजार, पेट्रोल पंप और स्कूल बंद हैं। जिले के सभी नगरीय निकायो में दुकानें बंद है। केवल पांढुर्णा में गोटमार मेला के कारण व्यावसायिक प्रतिष्ठान खुले हैं। छिंदवाड़ा नगर के सिनेमा घरों में भी बारह बजे का शो बंद रखा गया है।

जबलपुर में भी बंद प्रभावी है। सभी जगह दुकानें बंद हैं। कटनी में भी बंद का व्यापक असर है।

कांग्रेस महासचिव दिग्विजय सिंह के क्षेत्र राजगढ़ में भी बंद का व्यापक असर है। नरसिंहपुर, रायसेन, और सिवनी में भी बंद का असर देखा जा रहा है।

नीमच में सड़कों पर प्रदर्शन कर रहे कई कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने अपनी गिररफ्तारी दी। वहीं पन्ना में पार्टी कार्यकर्ताओं ने सड़कों पर उतर कर प्रधानमंत्री श्री मोदी और मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के खिलाफ नारेबाजी की।

मुरैना जिला कांग्रेस ने आज पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ के प्रवास के चलते बंद की अपील वापस ले ली। यहां लगभग सभी बाजार और दुकानें खुली रहीं। सीहोर, सतना, विदिशा में बंद का मिला-जुला असर बना हुआ है। वहीं खंडवा, श्योपुर, शहडोल में बंद का कोई असर देखने को नहीं मिल रहा। बंद को देखते हुए प्रदेश में पुलिस-प्रशासन ने सुरक्षा के व्यापक इंतजाम किए हैं। राजधानी भोपाल में भी बाजारों समेत जगह-जगह पर पुलिस गश्त कर रही है।


Share it
Share it
Share it
Top