विस अध्यक्ष को हटाने के संबंध में दी गयी नोटिस वापस, कांग्रेस के तीन विधायकों की निलंबन अवधि घटी

विस अध्यक्ष को हटाने के संबंध में दी गयी नोटिस वापस, कांग्रेस के तीन विधायकों की निलंबन अवधि घटी

गांधीनगर। गुजरात विधानसभा के अध्यक्ष राजेन्द्र त्रिवेदी को उनके पद से हटाने के लिए प्रस्ताव लाने का नोटिस कांग्रेस के सदन में उपनेता शैलेश परमार ने आज वापस ले लिया और दूसरी ओर गत 14 मार्च को सदन में मारपीट की घटना के बाद लंबी अवधि के लिए निलंबित किये गये तीन कांग्रेस विधायकों के निलंबन की अवधि भी घटा दी गयी।
परमार ने गत 28 फरवरी को संविधान के अनुच्छेद 179 के तहत त्रिवेदी को उनके पद से हटाने के लिए नोटिस दी थी। उन्होंने श्री त्रिवेदी पर कांग्रेस के साथ भेदभावपूर्ण रवैया अपनाने का आरोप लगाते हुए यह नोटिस दी थी। मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ने कांग्रेस से इसे यह कहते हुए वापस लेने का आग्रह किया था कि राज्य विधानसभा के इतिहास में भले ही अध्यक्ष को हटाने के लिए करीब तीन दर्जन बार नोटिस दिया गया हो पर इस पर कभी भी चर्चा नहीं हुई।
उधर, गत 14 मार्च को सदन में माइक उखाड़ कर हमला करने और हंगामे की घटना के बाद तीन साल के निलंबित कांग्रेस विधायक प्रदीप दुधात और अमरीश डेर तथा एक साल के लिए निलंबित बलदेवजी ठाकोर का निलंबन भी आज घटा कर सत्रांत यानी कल (मौजूदा बजट सत्र का समापन कल हो रहा है) तक कर दिया गया। इस संबंध में एक प्रस्ताव उपमुख्यमंत्री नीतिन पटेल ने रखा जिसे सर्वसम्मति से मंजूर कर लिया गया और अध्यक्ष ने भी इस पर अपनी मुहर लगा दी। तीन विधायकों ने इस मामले में हाई कोर्ट का दरवाजा भी खटखटाया था।
पिछले कई दिनों से दोनो मामलों को सुलझाने के लिए सरकार और कांग्रेस के बीच बातचीत आज रंग लायी। दोनो मुद्दों को आपसी सहमति से सुलझा लिया गया।

Share it
Top