भारत बंद : राजद प्रदेश अध्यक्ष अन्नपूर्णा देवी समर्थकों के साथ गिरफ्तार

भारत बंद : राजद प्रदेश अध्यक्ष अन्नपूर्णा देवी समर्थकों के साथ गिरफ्तार


रांची। पेट्रोल-डीजल के बढ़े दामों के खिलाफ कांग्रेस के भारत बंद का राजधानी रांची समेत पूरे राज्य में मिलाजुला असर देखने को मिल रहा है। अभी तक किसी अप्रिय घटना की सूचना नहीं है। पुलिस मुस्तैद है। भारत बंद को सफल बनाने के लिए राजधानी रांची में सड़क पर उतरी राजद की प्रदेश अध्यक्ष अन्नपूर्णा देवी को पार्टी के प्रधान महासचिव संजय सिंह यादव, राष्ट्रीय सचिव जनार्दन पासवान, प्रदेश प्रवक्ता डॉ. मनोज कुमार, महासचिव आबिद अली, मनोज पांडेय, युवा प्रदेश अध्यक्ष अभय सिंह, सुरेंद्र यादव, किसान प्रकोष्ट अध्यक्ष अवधेश पाल, पंचायत प्रकोष्ट के पूणेंदु यादव, सत्यरूपा पांडेय आदि के साथ को पुलिस ने बिरसा चौक के निकट से गिरफ्तार कर लिया।

गुमला में पूर्व सांसद रामेश्वर उरांव सहित 100 बंद समर्थक गिरफ्तार

गुमला जिला बंद शांतिपूर्ण है। पूर्व सांसद रामेश्वर उरांव, जिला अध्यक्ष रौसन बरवा के नेतृत्व में बंद समर्थक सड़कों पर उतरे। 100 से अधिक कांग्रेस नेताओं ने गिरफ्तारी दी। सिसई में पूर्व मंत्री गीता श्री उरांव के नेतृत्व में जुलूस निकाला गया। बस सहित व्यावसायिक वाहनों का परिचालन पूरी तरह ठप है। इससे लोगों को काफी परेशानी हो रही है। कांग्रेस के भारत बंद को झारखंड में झारखंड मुक्ति मोर्चा (झामुमो), झारखंड विकास मोर्चा (जेवीएम), राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) समेत सभी वामदलों का समर्थन है।

कोडरमा में सड़क पर उतरे दीपंकर भट्टाचार्य, पूर्व सांसद तिलकधारी सिंह

कोडरमा में भारत बंद के समर्थन में वामदल, झाविमो, झामुमो, कांग्रेस के नेता-कार्यकर्ता सोमवार सुबह करीब नौ बजे झंडा-बैनर के साथ सड़कों पर उतरे। भाकपा माले के केंद्रीय महासचिव दीपंकर भट्टाचार्य ने प्रदर्शन का नेतृत्व किया। साथ में कांग्रेस के पूर्व सांसद तिलकधारी प्रसाद, राजधनवार के विधायक राजकुमार यादव, बगोदर के पूर्व विधायक विनोद सिंह भी थे। बंद समर्थकों ने कोडरमा के झंडा चौक पर एक जनसभा का आयोजन भी किया। वहां दीपंकर ने कहा कि भाजपा की केंद्र सरकार ने देश की जनता के साथ विश्वासघात किया है। जनसभा के बाद दीपंकर भट्टाचार्य,राजकुमार यादव, पूर्व सांसद तिलकधारी सिंह, पूर्व विधायक बिनोद सिंह चले गये, लेकिन में पुलिस ने कुछ बंद समर्थकों को गिरफ्तार कर लिया।

लोहरदगा में बंद बेअसर

लोहरदगा में बंद बेअसर रहा। सड़कों पर आवागमन में कोई बाधा नहीं आई। किसी भी दल के नेता ने सड़क पर उतरकर बंद कराने की कोशिश नहीं की। सरकारी और प्राइवेट स्कूलें बंद हैं। जगह-जगह पर पुलिस बल को तैनात कर दिए गए हैं।

जमशेदपुर में बंद का असर, ट्रेनें समय पर चलीं

जमशेदपुर में भी बंद का व्यापक असर देखा गया। सड़कें सुनसान हैं। इक्के-दुक्के वाहनों का परिचालन हो रहा है। साकची मिनी बस स्टैंड में सन्नाटा पसरा है। एक भी मिनी बस शहर में नहीं चली। एनएच पर गाड़ियां कम चल रही हैं। टाटानगर स्टेशन पर भारत बंद का कोई असर नहीं है। सोमवार को टाटानगर से गुजरने वाली और खुलने वाली सभी ट्रेनें निर्धारित समय से चलीं।

धनबाद में मिलाजुला असर, निरसा में बेअसर

कोयला नगरी धनबाद में भी बंद का मिलाजुला असर दिख रहा है। धनबाद स्टेशन पर बंदी के दौरान सुरक्षा के व्यापक इंतजाम किए गए हैं। सदर एसडीओ, डीएसपी (लॉ एंड ऑर्डर) के साथ जीआरपी के डीएसपी और धनबाद आरपीएफ पोस्ट एवं जीआरपी के धनबाद थाना प्रभारी ने स्टेशन पर सुरक्षा व्यवस्था का जायजा लिया। निरसा में भी बंदी का कोई असर नहीं है।

चतरा: बंद समर्थक हिरासत में, इटखोरी में सिर मुंडवाकर जताया विरोध

चतरा में बंद का व्यापक असर दिख रहा है। विपक्षी दलों के नेताओं ने सड़क पर उतरकर विरोध प्रदर्शन किया और केंद्र की मोदी सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। राष्ट्रीय राजमार्ग एनएच 99 पर वाहनों का परिचालन पूरी तरह से ठप है। इससे चतरा-गया और चतरा-रांची मुख्यपथ को केशरी चौक पर जाम करने का भी प्रयास किया, लेकिन पुलिस ने उसे नाकाम कर दिया। बंद समर्थकों को पुलिस ने हिरासत में ले लिया। उनलोगों को नगर भवन परिसर में बनाए गए अस्थाई कैंप जेल में रखा गया है। जिले के इटखोरी में कांग्रेस, जेवीएम और राजद नेताओं ने सिर मुंडवाकर विरोध जताया। उन्होंने चतरा-चौपारण और चतरा-कोडरमा मुख्य सड़को को जाम कर दिया।


Share it
Share it
Share it
Top