आत्महत्या के प्रयास को अधिकारी बताते हैं झगड़ा में लगी चोट

आत्महत्या के प्रयास को अधिकारी बताते हैं झगड़ा में लगी चोट


बेगूसराय बेगूसराय बालिका बाल गृह में भी बड़े पैमाने पर गड़बड़ी हो रही है। ना तो खाना सही से दिया जा रहा है और ना ही रहने की व्यवस्था दुरुस्त है। मारपीट तो होते ही रहती है। ऊपर से लड़कियों को नंगा करने की भी धमकी दी जाती है। मामले का खुलासा कर रही है सदर अस्पताल में इलाजरत एक लड़की। असम की रहने वाली 14 वर्षीय लड़की घर से भाग गई थी तथा करीब चार माह पहले लखीसराय में मिलने पर उसे बेगूसराय बालिका गृह भेजा गया। पटना के एक एनजीओ द्वारा बेगूसराय शहर के रतनपुर में संचालित बालिका गृह की एक लड़की का शैंपू गायब हो गया। उसके बाद वार्डन तनुजा कुमारी ने कहा कि शैंपू नहीं मिला तो तुम्हारा कपड़ा खोलकर चेक करुंगी। इससे दुखी होकर उक्त छात्रा ने आत्महत्या की कोशिश की है। लेकिन तत्काल उसे सदर अस्पताल में इलाज किया जा रहा है। लड़की ने कहा है कि लड़कियों के साथ मारपीट की जाती है। उसे भी दो बार पीटा जा चुका है। रहने की व्यवस्था ठीक नहीं है। खाना ठीक से नहीं दिया जाता है। दुर्भाग्य की बात है कि इस बालिका गृह में होने वाली गड़बड़ी की सूचना उच्चाधिकारी तक पहुंच भी नहीं पाती है। रविवार की शाम मीडिया कर्मियों को जब एक लड़की के द्वारा आत्महत्या के प्रयास की जानकारी मिली तो इस पर बाल संरक्षण सह निदेशक ने बताया कि आत्महत्या का प्रयास नहीं, दो लड़कियों के झगड़ा में वह घायल हुई है। जबकि सदर अस्पताल में कराह रही उस लड़की सब कुछ बता रही है। डॉक्टरों का कहना है कि जांच की जा रही है, उसके बाद पता चलेगा कि उसके आंत में शीशा है या नहीं तथा आंत घायल भी हुआ है। वहीं,

इस मामले की पड़ताल महिला थानाध्यक्ष कर रही है। फिलहाल मामला चाहे जो भी हो, लेकिन इस बालिका गृह की गंभीरता से जांच पड़ताल हो तो कई सनसनीखेज खुलासा होने की बात सूत्र बता रहे हैं। बताते चलें कि पिछले माह घर पहुंची मोतिहारी की एक लड़की ने भी इस बालिका गृह में होने वाली गड़बड़ियों का मामला उजागर किया था। इसके बाद जांच में पहुंची बिहार बाल अधिकार संरक्षण आयोग अध्यक्ष डॉ हरपाल कौर ने भी गड़बड़ी देख इसकी शिकायत सरकार से करने की बातें कही थी।


Share it
Top