पंचायत चुनावों में टीएमसी भारी जीत की ओर, भाजपा, वाम मोर्चा तथा कांग्रेस धराशायी

पंचायत चुनावों में टीएमसी भारी जीत की ओर, भाजपा, वाम मोर्चा तथा कांग्रेस धराशायी

कोलकाता । पश्चिम बंगाल में हुए त्रिस्तरीय पंचायत चुनावों में सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस ने भारतीय जनता पार्टी (भाजपा), वाम मोर्चा तथा कांग्रेस काे धराशायी कर दिया है।
सत्तारूढ़ कांग्रेस ने अभी तक 2,467 ग्राम पंचायत सीटों पर जीत दर्ज की है और ताजा सूचना के अनुसार पार्टी उम्मीदवार अधिकतर पंचायत समितियों तथा ग्राम पंचायतों में आगे चल रहे हैं।
भाजपा ने अभी तक 386 सीटों पर जीत हासिल की है जबकि मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी 94 तथा कांग्रेस ने 33 सीटें जीती हैं।
सत्तारूढ़ टीएमसी राज्य के सभी जिला परिषद सीटों पर आगे चल रही है। पंचायत समिति चुनाव में टीएमसी ने अभी तक 14 सीटें जीती हैं और 24 सीटों पर उसके उम्मीदवार आगे चल रहे हैं।
राज्य चुनाव आयोग के अनुसार टीएमसी 2,683 सीटों पर आगे है। भाजपा 231 सीटों पर, माकपा 163 सीटों पर तथा कांग्रेस 55 पर आगे है। निर्दलीय उम्मीदवारों ने अभी तक 158 ग्राम पंचायत सीटों पर जीत दर्ज की है और 163 पर आगे चल रहे हैं।
टीएमसी नादिया के सगुना ग्राम पंचायत में 27 सीटों पर आगे चल रही है। माकपा यहां दूसरे नंबर पर है और उसके 15 उम्मीदवार बढ़त बनाए हुए हैं। भाजपा तीसरे नंबर पर है और उसके सात उम्मीदवार आगे चल रहे हैं। बगुला-1 ग्राम पंचायत में टीएमसी 21 सीटों पर आगे है। भाजपा उम्मीदवार तीन सीटों पर आगे चल रहे हैं जबकि पांच सीटों पर निर्दलीय उम्मीदवारों ने बढ़त बना रखी है।
स्वरूपगंज ग्राम पंचायत चुनाव में टीएमसी के 22 उम्मीदवार आगे है जबकि भाजपा 16 सीटों पर, माकपा 19 सीटों पर, कांग्रेस एक सीट पर तथा चार सीटों पर निर्दलीय उम्मीदवारों ने बढ़त बना रखी है। मुर्शिदाबाद के मीरगंज-1 ग्राम पंचायत चुनावों में सत्तारूढ़ टीएमसी 11 सीटों पर आगे है जबकि माकपा चार सीटों पर और चार सीटों पर निर्दलीय उम्मीदवारों ने बढ़त बना रखी है। सुजापुर-कुमारपुर ग्राम पंचायत में टीएमसी 16 सीटों पर आगे है जबकि पांच सीटों पर भाजपा तथा माकपा ने एक सीट पर बढ़त बना रखी है।
इमामनगर ग्राम पंचायत में टीएमसी के 19 उम्मीदवार आगे चल रहे हैं जबकि भाजपा ने दो सीटों पर बढ़त बना रखी है। तीन सीटों पर निर्दलीय उम्मीदवार आगे चल रहे हैं।
मुर्शिदाबाद कांग्रेस का मजबूत गढ़ तथा प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष एवं लोकसभा सांसद अधीर रंजन चौधरी का गृह जिला है।
उत्तरी 24 परगना के चांदीपुर ग्राम पंचायत में टीएमसी 18 सीटों पर आगे है जबकि भाजपा तथा मापका के 11-11 उम्मीदवारों ने बढ़त बना रखी है। चार सीटों पर निर्दलीय उम्मीदवार आगे चल रहे हैं।
जेतिया ग्राम पंचायत चुनावों में टीएमसी 23 सीटों पर आगे है। भाजपा 10 सीटों पर तथा 15 सीटों पर माकपा के उम्मीदवारों ने बढ़त बना रखी है। शिबदासपुर ग्राम पंचायत में टीएमसी दो सीटों पर आगे है। चम्पाली ग्राम पंचायत में टीएमसी 14 सीटों पर आगे है और नौ सीटों पर निर्दलीय उम्मीदवारों ने बढ़त बना रखी है।
कूच-बेहरा के चंदमरी ग्राम पंचायत में टीएमसी 16 सीटों पर आगे है। भाजपा यहां एक सीट पर और नौ सीटों पर निर्दलीय उम्मीदवारों ने बढ़त बना रखी है।
बलरामपुर-1 ग्राम पंचायत चुनाव में टीएमसी 15 सीटों पर तथा भाजपा तीन सीट पर आगे है।
पूर्वी मेदिनीपुर के ईश्वरपुर ग्राम पंचायत में टीएमसी 12 सीटों पर आगे है। भाजपा यहां पांच सीटों पर तथा 12 सीटों पर निर्दलीय उम्मीदवारों ने बढ़त बना रखी है जबकि एक सीट पर माकपा का उम्मीदवार आगे चल रहा है।
कुलबरी ग्राम पंचायत में टीएमसी तथा भाजपा 11-11 सीटों पर आगे है जबकि दो सीट पर निर्दलीय उम्मीदवारों तथा 10 सीटों पर माकपा के उम्मीदवारों ने बढ़त बना रखी है।
पश्चिमी मेदिनीपुर के शलबोनी ग्राम पंचायत चुनावों में टीएमसी तथा भाजपा आठ-आठ सीटों पर आगे हैं।
लोधशूली ग्राम पंचायत में टीएमसी तथा भाजपा नौ-नौ सीटों पर आगे है जबकि दो सीटों पर निर्दलीय उम्मीदवारों ने बढ़त बना रखी है। बर्धमान की की 26 सीटों में से 16 सीटों पर टीएमसी के उम्मीदवार आगे हैं। भाजपा यहां एक सीट पर जबकि नौ सीटों पर निर्दलीय उम्मीदवारों ने बढ़त बना रखी है।
बर्धमान के नित्यानंदपुर ग्राम पंचायत की सभी 18 सीटों पर टीएमसी ने जीत दर्ज की है। बोरोबेलून-1 ग्राम पंचायत में टीएमसी ने आठ सीटों पर जीत दर्ज की है जबकि एक सीट पर निर्दलीय उम्मीदवार विजयी हुआ है।
बोरोबेलून-2 ग्राम पंचायत में टीएमसी ने 10 सीटों जीती हैं जबकि एक सीट पर माकपा का उम्मीदवार विजयी हुआ है। भटर ग्राम पंचायत में टीएमसी ने 13 सीटें जीती हैं जबकि तीन-तीन सीट पर भाजपा तथा माकपा के उम्मीदवार विजयी हुए हैं। वही दो सीट पर निर्दलीय उम्मीदवारों ने जीत हासिल की है।

Share it
Top