साक्षी महाराज ने किया नाईट क्लब का उद्घाटन, सोशल मीडिया पर तस्वीरें वायरल

साक्षी महाराज ने किया नाईट क्लब का उद्घाटन, सोशल मीडिया पर तस्वीरें वायरल

लखनऊ।अपने बयानों को लेकर अक्सर सुर्खियों में रहने वाले भारतीय जनता पार्टी(भाजपा) सांसद सचिदानन्द उर्फ साक्षी महाराज नाईट क्लब का उद्घाटन कर एक बार फिर चर्चा में आ गये हैं।
भाजपा सांसद ने राजधानी लखनऊ के अलीगंज में कल शाम एक नाईट क्लब का उद्घाटन किया। इस क्लब के उद्घाटन के बाद उनकी चौतरफा आलोचना हो रही है।
नाईट क्लब का उद्घाटन करने के बाद सोशल मीडिया पर उनकी तस्वीर वायरल हो गयी । लोगों ने साक्षी महाराज के नाइट क्लब जाने को लेकर चटखारे लिये । उन्हे 'नाईट क्लब वाले बाबा' नाम से बुलाने लगे।
पिछले साल योगी सरकार की किरकिरी मंत्री स्वाति सिंह ने 'बी द बियर' रेस्टोरेंट का उद्घाटन करके कराई थी। इस बार इसी कड़ी में भाजपा के सांसद साक्षी महाराज का नाम जुड़ गया ।
नाइट क्लब के उद्घाटन पर समाजवादी पार्टी(सपा), बहुजन समाज पार्टी (बसपा) के नेताओं ने कहा कि साधु के कपड़ों में साक्षी महाराज जो कर रहे हैं, यह संतों का अपमान है।
साक्षी महाराज पहले भी अपने बयानों को लेकर विवादों में रहे हैं। लड़कियों की लड़कों से दोस्ती और कपड़ों पर बयान देकर भी वह आलोचना का शिकार हो चुके हैं। पिछले साल भाजपा सरकार में मंत्री स्वाति सिंह 20 मई को बीयर बार का उद्धाटन कर विवादों में फंस गई थीं। उस समय मामला इतना बढ़ा था कि पार्टी ने उनसे इस पर जवाब भी मांगा था। स्वाति ने तब अपनी एक दोस्त के बार का उद्घाटन करने की बात कही थी।
साक्षी महाराज नाईट क्लब में बतौर मुख्य अतिथि शामिल हुये थे। साक्षी महाराज द्वारा नाइट क्लब का उद्घाटन करने के बाद लोग भाजपा सरकार तथा साक्षी महाराज पर सवाल खड़े कर रहे हैं। लोगों का कहना है कि भगवा चोला एवं सिद्धांतों की बात करने वाले यह नेता किसी न किसी बहाने जनता के सामने अपने असली रुप में आ ही जाते हैं।
इस दौरान लखनऊ के अलीगंज में खोले गए नाइट क्लब और बार का भगवा कपड़ों में उद्घाटन करने पहुंचे साक्षी महाराज का विरोध खुद उनकी पार्टी के कार्यकर्ताओं ने ही किया। भाजपा कार्यकर्ताओं ने सांसद की शिकायत प्रदेश अध्यक्ष महेंद्र नाथ पाण्डेय से की है।
इस बीच, सपा प्रवक्ता सुनील सिंह ने अपने ट्वीट में कहा, "अपने स्तरहीन बयानों के जरिये सुर्खियों में रहने वाले बाबा काे नाइट क्लब का उद्घाटन से परहेज नही है। यह साधु संतों का अपमान है।"

Share it
Share it
Share it
Top