'पीएनबी का महाघोटाला केंद्र की अनदेखी का नतीजा'

पीएनबी का महाघोटाला केंद्र की अनदेखी का नतीजा

नई दिल्ली। कांग्रेस और आम आदमी पार्टी (आप) ने कथित तौर पर निजी क्षेत्र और पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) में देश का बड़े करीब 11,300 करोड़ रुपये के बैंकिंग घोटाले को लेकर केंद्र पर सवाल उठाते हुए इसे 'महाघोटाला' करार दिया है। दरअसल, विपक्षी दलों ने इस घोटाले को राजनीतिक रंग देना शुरू कर दिया है।
उल्लेखनीय है कि पब्लिक सेक्टर के बड़े बैंक पीएनबी में करीब 11,300 करोड़ रुपये के फर्जीवाड़े की बात सामने आ रही है। इस महाघोटाले का मुख्य आरोपी हीरा कारोबारी नीरव मोदी को बताया जा रहा है। प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने नीरव
मोदी के ठिकानों पर छापेमारी शुरू कर दी है। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने मोदी सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि जो नीरव मोदी जो देश को लूट रहा है उससे दावोस में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को गले मिलते देखा गया था| देश में 12 हजार करोड़ के घोटाले को नजरंदाज किया जा रहा है| ठीक उसी तरह, जैसे विजय माल्या मामले में किया गया था|
कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने इस घोटाले को लेकर मोदी सरकार पर आरोप लगाते हुए ट्वीट कर पूछा है कि नीरव मोदी कौन हैं? उन्होंने इस घोटाले के लिए 'द न्यू मोदीस्कैम' का भी इस्तेमाल किया है। सुरजेवाला ने ट्वीट में सवाल उठाए हैं कि क्या ललित मोदी और विजय माल्या की तरह ही किसी ने सरकार के भीतर से नीरव मोदी को भागने में मदद की? क्या यह नियम बन गया है कि पब्लिक का पैसा लेकर लोगों को भागने दिया जाएगा? कौन दोषी है?
पीएनबी घोटाले को लेकर आम आदमी पार्टी संयोजक और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने केंद्र की भाजपा सरकार पर आरोप लगाते हुए गुरुवार को एक ट्वीट को रीट्वीट करते हुए इसे केंद्र की अनदेखी बताया है। उन्होंने इसे विजय माल्या की फरारी का प्रकरण से जोड़ते हुए इन दोनों का ठीकरा भाजपा सरकार के माथे पर फोड़ा है। केजरीवाल ने लिखा कि क्या इस पर विश्वास करना मुमकिन है कि नीरव मोदी या विजय माल्या बिना भाजपा सरकार की अनदेखी के देश छोड़ने में सफल हो गए? केजरीवाल के सवाल पर भाजपा ने कहा कि पीएनबी का ट्रांजैक्शन 2011 में हुआ है और उस समय हमारी सरकार नहीं थी।
उल्लेखनीय है कि विजय माल्या पर भी बैंकों का करीब 9 हजार करोड़ रुपये लेकर फरार होने का आरोप है। सरकार अब तक माल्या को देश वापस लाने में सफल नहीं हो सकी है। इसी बीच अब विपक्षी पार्टियों को नीरव मोदी का मामला भी मिल गया है। कांग्रेस ने भी इस मसले को उठाने में देर नहीं की है।
उल्लेखनीय है कि नीरव मोदी ज्वेलरी डिजाइनर कहे जाते हैं| वह 2.3 अरब डॉलर के फ़ायरस्टार डायमंड के संस्थापक हैं|मोदी साल 2013 में फ़ोर्ब्स लिस्ट ऑफ़ इंडियन बिलिनेयर में आए थे, तब से अपनी जगह बनाए हुए हैं | नीरव देश के सबसे रईस लोगों की गिनती में 46वें पायदान पर खड़े हैं| इनके खिलाफ एक हफ्ते पहले भी 280 करोड़ की धोखाधड़ी का मुकदमा दर्ज हुआ था| उनकी पत्नी एमी ओर भाई निशाल मोदी भी इस घोटाले में शामिल हैं|

Share it
Top