शिवसेना प्रमुख ने कहा- अमित शाह और फडणवीस की मौजूदगी में तय हुआ था ढाई-ढाई साल का फार्मूला..सत्ता के लिए झूठ बोलने का आरोप

शिवसेना प्रमुख ने कहा- अमित शाह और फडणवीस की मौजूदगी में तय हुआ था ढाई-ढाई साल का फार्मूला..सत्ता के लिए झूठ बोलने का आरोप


मुंबई । शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने कहा कि भाजपा सत्ता की लालसा की वजह से झूठ बोल रही है। झूठ बोलने वालों से वह किसी भी तरह की चर्चा नहीं करेंगे। यदि भाजपा को सरकार बनानी है तो बनाए, नहीं तो शिवसेना के पास सरकार बनाने का दूसरा विकल्प मौजूद है। भाजपा यदि सरकार बनाने में असफल रहती है तो शिवसेना सरकार बनाएगी और मुख्यमंत्री शिवसेना का ही होगा। उद्धव ने कहा कि गंगा साफ करते-करते भाजपा का मन कलुषित हो गया है, इसीलिए वह झूठ का सहारा ले रही है।

उद्धव ठाकरे ने शुक्रवार को शिवसेना भवन में प्रेस कॉन्फ्रेंस को संबोधित किया। उद्धव ने बताया, "वर्ष 2014 में इसी तरह की तनातीन को देखते हुए शिवसेना अपने बल पर चुनाव लड़ी थी। हाल में संपन्न लोकसभा चुनाव से पहले भाजपा अध्यक्ष अमित शाह और देवेंद्र फडणवीस खुद उनके पास आए थे और गठबंधन कर चुनाव लड़ने की बात की थी। उस समय अमित शाह ने कहा था कि जिसका ज्यादा विधायक होगा उसका ही मुख्यमंत्री होगा, लेकिन अमित शाह के इस प्रस्ताव को मैंने अमान्य कर दिया था। इसके बाद अमित शाह ने पूछा कि फिर आप बताइए कैसे बात बन सकती है। उसके बाद मैंने कहा कि सत्ता का समान बंटवारा होना चाहिए और मुख्यमंत्री पद ढाई-ढाई साल तक दोनों दलों के पास रहना चाहिए। इस बात पर अमित शाह ने फडणवीस के सामने मंजूरी दी थी, लेकिन फडणवीस ने कहा कि यह बात अगर सार्वजनिक कर दी गई तो उन्हें उनके पार्टी में दिक्कत हो सकती है। मुख्यमंत्री की बात मानते हुए उन्होंने यह बात सार्वजनिक नहीं की थी। फडणवीस ने अपनी अड़चन का हवाला दिया इसी वजह से वह सिर्फ 124 सीटों पर चुनाव लड़े। अपनी जीती हुई सीटें भी भाजपा को दे दी थी। उद्धव ने भाजपा पर मीठा बोलकर शिवसेना को समाप्त करने का भी आरोप लगाया है।"

शिवसेना प्रमुख ने कहा कि अब फडणवीस सत्ता की लालच में झूठ बोल रहे हैं। इतना ही नहीं वह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह का अपमान करने का झूठा आरोप लगा रहे हैं। उन्होंने कभी भी नरेंद्र मोदी और अमित शाह के लिए अपमानजनक शब्दों का प्रयोग नहीं किया है। इसके उलट नरेंद्र मोदी और अमित शाह के प्रति अपमानजनक शब्दों का प्रयोग करने वाले दुष्यंत चौटाला के साथ मिलकर भाजपा ने हरियाणा में सरकार बनायी है। जब भाजपा किसी भी दल के साथ मिलकर सरकार बनाने का प्रयास कर सकती है तो वह अन्य विकल्प पर विचार क्यों नहीं कर सकते।

उद्धव ने कहा कि भाजपा सबसे अधिक विधायकों वाली पार्टी है वह सरकार बनाए। इस समय किसानों की हालत खराब है। उन्हें तत्काल मदद की आवश्यकता है, लेकिन अगर भाजपा सरकार बनाने में असफल रहती है तो वह कह दे कि उसके पास बहुमत नहीं है। हम सरकार बनाने के लिए तैयार हैं। मतगणना के बाद उन्होंने किसी भी दल से किसी भी तरह की बात नहीं की है। जबकि फडणवीस उन पर अन्य दलों से बातचीत करने का झूठा आरोप लगा रहे हैं। उद्धव ने कहा गठबंधन को तोड़ने का महापाप वह नहीं करेंगे, भाजपा को अगर लगता है तो वह इसे तोड़ दे।


Share it
Top