मॉब लिंचिंग के लिये सख्त कानून बनाने की जरूरत..केन्द्र की भाजपा सरकार का रवैया उदासीन है - मायावती

मॉब लिंचिंग के लिये सख्त कानून बनाने की जरूरत..केन्द्र की भाजपा सरकार का रवैया उदासीन है - मायावती


लखनऊ। बहुजन समाज पार्टी (बसपा) की सुप्रीमो मायावती ने मॉब लिंचिंग के लिए सख्त कानून बनाए जाने की मांग है। उन्होंने शनिवार को कहा कि इससे केवल दलित, आदिवासी व धार्मिक अल्पसंख्यक समाज ही नहीं, बल्कि सर्वसमाज के लोग व पुलिस भी शिकार बन रही हैं।

मायावती ने कहा कि देश में मॉब लिंचिंग के विषय पर केन्द्र की भाजपा सरकार का रवैया उदासीन है। जबकि सुप्रीम कोर्ट ने इसको गंभीरता से लिया है और केन्द्र व राज्य सरकारों को निर्देश जारी किये हैं। उन्होंने कहा कि कानून बनाने के साथ ही भाजपा सरकारों को बसपा सरकार की तरह सख्ती से लागू करने की इच्छाशक्ति भी विकसित करनी होगी।

उन्होंने कहा कि मॉब लिंचिंग जैसी गंभीर भयानक बीमारी के खिलाफ देशव्यापी कानून की सख्त जरूरत है। वहीं उन्होंने राज्य विधि आयोग द्वारा 'उत्तर प्रदेश काम्बेटिंग आफ मॉब लिंचिंग विधेयक, 2019' तैयार कर सख्त कानून बनाने की सिफारिश का स्वागत किया है।

मायावती ने कहा कि उन्मादी व भीड़ हिंसा की बढ़ती घटनाओं से सामाजिक तनाव काफी बढ़ गया है। मॉब लिंचिंग की घटना पहले भी इक्का-दुक्का हुआ करती थी, लेकिन अब यह घटनाएं आम हो गई हैं। देश में लोकतंत्र के हिंसक भीड़तंत्र में बदल जाने पर सभ्य समाज में चिंता की लहर है।


Share it
Top