नारद स्टिंग मामला : राज्य परिवहन विभाग को सीबीआई का नोटिस

नारद स्टिंग मामला : राज्य परिवहन विभाग को सीबीआई का नोटिस


कोलकाता। नारद स्टिंग ऑपरेशन मामले की जांच कर रही केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो (सीबीआई) ने इस मामले में शनिवार को राज्य के परिवहन मंत्रालय को नोटिस भेजा है। जांच एजेंसी के सूत्रों ने इस बात की पुष्टि की है।

बताया गया है कि 2014 के लोकसभा चुनाव के समय जब नारद न्यूज़ पोर्टल के सीईओ मैथ्यू सैमुअल ने एक फर्जी कंपनी का निदेशक बनकर इस स्टिंग ऑपरेशन को अंजाम दिया था तब तृणमूल नेता मदन मित्रा राज्य के परिवहन और खेल मंत्री थे। मंत्रालय में ही जाकर मैथ्यू ने उनसे मुलाकात की थी और वही स्टिंग ऑपरेशन किया गया था। तब मदन मित्रा पांच लाख रुपये लेते हुए कैमरे में कैद हुए थे। उन्होंने फर्जी कंपनी के निदेशक बने सैमुअल को उनका कारोबार पश्चिम बंगाल के अन्य हिस्सों समेत कोलकाता में स्थापित करने में मदद करने का आश्वासन दिया था।

अब मदन मित्रा को धन शोधन के मामले में ईडी पहले ही नोटिस भेज चुका है। इधर सीबीआई ने भी शिकंजा कसना शुरू किया है। अपने नोटिस में सीबीआई ने उन अधिकारियों को पूछताछ के लिए भेजने का निर्देश दिया है जो मदन के मंत्री रहते स्टिंग ऑपरेशन के दौरान मौजूद थे। मैथ्यू के कैमरे में कुछ लोग कैद हुए हैं उनकी लिस्ट भी सीबीआई की ओर से भेजी गई है। इसके अलावा जो अन्य लोग वहां मौजूद थे उन्हें भी बुलाया गया है।

दरअसल जांच एजेंसी उन लोगों से पूछताछ कर यह जानना चाहती है कि स्टिंग ऑपरेशन के पहले और बाद में मैथ्यू से किस तरह से संपर्क हुआ? आगे क्या कुछ मदद की गई अथवा स्टिंग ऑपरेशन के दौरान क्या कुछ बातचीत हुई थी? मदन मित्रा का जहां स्टिंग ऑपरेशन हुआ वहां किसी तरह का कोई सीसीटीवी फुटेज मौजूद नहीं है। इसलिए जांच एजेंसी इन प्रत्यक्षदर्शियों के बयान पर ही भरोसा करने को मजबूर है।

उल्लेखनीय है कि इसके पहले कोलकाता के मेयर फिरहाद हकीम को भी सीबीआई ने नोटिस भेजा था। शुक्रवार को तीन लोगों से पूछताछ भी की गई है जिनमें से एक कोलकाता के पूर्व मेयर शोभन चटर्जी का ओएसडी रह चुका था।


Share it
Top