भाजपा को हासिल करना होगा अभी अपना उच्चतम 'शिखर' : अमित शाह

भाजपा को हासिल करना होगा अभी अपना उच्चतम शिखर : अमित शाह

नई दिल्ली। भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने 2019 के लोकसभा चुनावों में पार्टी को मिली प्रचंड जीत के बाद एक बार फिर गुरुवार को कहा कि पार्टी के लिए सफलता का उच्चतम 'शिखर' अभी बाकी है।

भाजपा के महासचिव भूपेंद्र यादव ने यहां पार्टी कार्यालय में संवाददाताओं से कहा कि अमित शाह ने पार्टी के पदाधिकारियों और राज्य के नेताओं की बैठक में यह बात कही। उन्होंने कहा कि अमित शाह ने कार्यकर्ताओं की परिश्रम की सराहना करते हुए कहा कि पार्टी लोकसभा चुनावों में 303 सीटों में से 220 सीटें, 50 फीसदी से अधिक मत प्राप्त किए हैं। पार्टी ने 16 राज्यों में 50 प्रतिशत से अधिक मत प्राप्त किए। इसके बावजूद संगठन के विस्तार का आह्वान करते हुए अमित शाह ने कहा कि जिस प्रकार राष्ट्रीय अध्यक्ष बनने के बाद अगस्त 2014 में उन्होंने राष्ट्रीय परिषद की बैठक में कहा था कि भाजपा का अभी उच्च्तम लक्ष्य (शिखर) नहीं आया है। आज पुन: 2019 में प्रचंड जीत के बावजूद भाजपा का शिखर अभी बाकी है।

पार्टी सूत्रों के अनुसार अमित शाह दिसंबर तक भाजपा अध्यक्ष बने रहेंगे। इससे स्पष्ट है कि पार्टी अमित शाह के नेतृत्व में ही महाराष्ट्र, हरियाणा और झारखंड में आगामी विधानसभा चुनाव में उतरेगी।

शाह ने रेखांकित किया कि पार्टी के नेताओं और कार्यकर्ताओं को अभी भी उन सभी वर्गों तक पहुंचने के लिए कड़ी मेहनत करने की जरूरत है जो अभी तक पार्टी का हिस्सा नहीं हैं। ऐसे क्षेत्र जहां पार्टी के कार्य का विस्तार नहीं हुआ है और जिन राज्यों में सफलता नहीं मिली है वहां पार्टी की सदस्यता का विस्तार करना है।

राष्ट्रीय अध्यक्ष ने औपचारिक सदस्यता अभियान के लिए एक कार्यक्रम निर्धारित किया और निर्देश दिया कि सदस्यता संख्या को लगभग 20 प्रतिशत बढ़ाने का प्रयास किया जाए। यादव ने कहा कि नए सदस्यों के नामांकन का काम शुरू करने जा रहे हैं। मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और भाजपा उपाध्यक्ष शिवराज चौहान को सदस्यता अभियान का संयोजक नियुक्त किया गया है। वह सदस्यता प्रक्रिया की देखरेख करेंगे। उनके साथ दुष्यंत गौतम, सुरेश पुजारी, अरुण चतुर्वेदी और शोभा सुरेंद्रन सह-संयोजक की भूमिका में होंगे।

अमित शाह ने पार्टी पदाधिकारियों को संबोधित करते हुए कहा कि विगत चुनाव में भारत की जनता ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व और सुशासन वाली सरकार के लिए जो प्रचंड बहुमत दिया। इस जीत में करोड़ों कार्यकर्ताओं की मेहनत भी शामिल हैं। यादव ने कहा कि 2014 के बाद भाजपा के सदस्यों की संख्या 11 करोड़ हुई और उनमें से 10 लाख से अधिक सदस्यों को विधिवत प्रशिक्षण भी दिया गया।

उन्होंने कहा कि अमित शाह ने कार्यकर्ताओं से कहा है कि जातिवाद, परिवारवाद और संमप्रदायवाद यह तीन विषय देश की राजनीति के लिए नासूर बन गए थे। 2019 का चुनाव इसके खिलाफ जनमत है। यही कारण है कि उत्तर प्रदेश का जाति आधारित गठबंधन के मिथक को भी समाप्त कर दिया गया। उत्तरपूर्वी राज्य, ओडिशा, तेलंगाना और पश्चिम बंगाल में पार्टी का जनाधार बढ़ा है।


Share it
Top