लखनऊ से राजनाथ के खिलाफ कांग्रेस को मजबूत प्रत्याशी की दरकार, केन्द्रीय गृहमंत्री से भिड़ने को तैयार नहीं हो रहे कांग्रेस के बड़े नेता

लखनऊ से राजनाथ के खिलाफ कांग्रेस को मजबूत प्रत्याशी की दरकार, केन्द्रीय गृहमंत्री से भिड़ने को तैयार नहीं हो रहे कांग्रेस के बड़े नेता


लखनऊ। केन्द्रीय गृहमंत्री और लखनऊ से सांसद राजनाथ सिंह के मुकाबले कांग्रेस पार्टी लखनऊ से लोकसभा चुनाव में मजबूत उम्मीदवार उतारना चाहती है लेकिन कांग्रेस के बड़े नेता लखनऊ से हार तय मानकर राजनाथ सिंह के खिलाफ चुनाव लड़ने की हिम्मत नहीं जुटा पा रहे हैं। लखनऊ सीट भाजपा का गढ़ मानी जाती है। यहां से अटल बिहारी बाजपेई ने जीत का सिलसिला शुरू किया तो उनके बाद लालजी टण्डन और अब दूसरी बार राजनाथ सिंह चुनाव मैदान में हैं।

कांग्रेस ने वर्ष 2014 में तेज तर्रार नेता डा. रीता बहुगुणा जोशी को चुनाव मैदान में उतारकर भाजपा को कड़ी टक्कर दी थी। इसके बाद भी राजनाथ सिंह रिकार्ड वोटों से चुनाव जीते। लखनऊ में करीब साढ़े चार लाख ब्राह्मण मतदाता हैं। कांग्रेस पहले राजीव शुक्ला और प्रमोद तिवारी पर दांव खेलना चाह रही थी लेकिन दोनों नेताओं ने लखनऊ से लड़ने से मना कर दिया। इसके बाद प्रमोद कृष्णन और गोविन्दा को उतारने की बात चली। कुछ कांग्रेस नेताओं ने कहा कि इनका भी प्रभाव नहीं पड़ेगा। फिर शत्रुघ्न सिन्हा को लखनऊ से चुनाव लड़ने को कांग्रेस ने आफर किया। शत्रुघ्न सिन्हा ने साफ मना कर दिया। उन्होंने कहा कि हमारी पत्नी को लड़ाओ लेकिन कांग्रेस ने उनकी ो लड़ाने से मना कर दिया।

चर्चा है कि​ शत्रुघ्न सिन्हा की पत्नी सपा के टिकट पर लखनऊ से लोकसभा चुनाव लड़ेंगी। वर्तमान परिदृश्य को देखें तो कांग्रेस पार्टी से स्थानीय प्रत्याशी के तौर पर विनोद मिश्रा की दावेदारी प्रबल मानी जा रही है। जितिन प्रसाद को भी लखनऊ से लड़ाने की चर्चा है।

Share it
Top