शहादत को सलाम : हादसे वाली बस के चालक थे पंजाब के जयमल सिंह, पति की मौत की खबर सुनते ही होश खो बैठी पत्नी

शहादत को सलाम : हादसे वाली बस के चालक थे पंजाब के जयमल सिंह, पति की मौत की खबर सुनते ही होश खो बैठी पत्नी


, लाश देखे बगैर नहीं हुआ मौत का यकीन

चंडीगढ़ं। पुलवामा आतंकी हमले का शिकार हुई सैनिकों की बस को पंजाब के मोगा जिला के जयमल सिंह चला रहे थे।। जयमल सिंह की शहादत की खबर जैसे ही परिजनों को मिली तो उनका पूरा परिवार जालंधर पहुंच गया। हमले की खबर के बाद से ही सुखजीत कौर सुध-बुध खो बैठी। वह बस यह जानना चाहती है कि उनका सुहाग ठीक है या नहीं । वह देर रात तक पति की सलामती की खबर का इंतजार करती रही और भगवान से उनके ठीक-ठाक होने की दुआ करती रही।

जयमल सिंह का जन्म 26 अप्रैल 1974 को हुआ था। वह 19 साल की आयु में सीआरपीएफ में भर्ती हो गए थे। परिजनों ने बताया कि आतंकी हमला उस समय हुआ जब उनकी यूनिट एक जगह से दूसरी जगह शिफ्ट की जा रही थी और जयमल सिंह बस चला रहे थे। बताया जाता है कि जयमल सिंह अक्सर फोन कर अपने बेटे से काफी देर तक बात करते थे। जयमल सिंह मूल रूप से कोट ईस्सेखां का रहने वाला था। जयमल सिंह की पत्नी सुखजीत कौर जालंधर के करतारपुर के पास स्थित कोट सराए के सीआरपीएफ कैंप में ही रह रही हैं ।

पड़ोस की महिलाओं ने काफी मुश्किल से उन्हें संभाला। पूरी रात सुखजीत कौर को अपने पति के निधन पर यकीन नहीं हुआ। उसे बार-बार कहने के बावजूद वह कहती रही कि उसका पति आ जाएगा। सुबह जब उसे किसी ने टीवी चैनल पर चल रही खबरों के बारे में बताया तब उसे अहसास हुआ कि उसका पति अब इस दुनिया में नहीं है।

Share it
Top