शहादत को सलाम: शहीद की पत्नी ने पाक के खिलाफ सख्त कदम उठाने को कहा

शहादत को सलाम: शहीद की पत्नी ने पाक के खिलाफ सख्त कदम उठाने को कहा



इटावा । जम्मू कश्मीर के पुलवामा में गुरुवार को सीआरपीएफ जवानों पर हुए आतंकी हमले में मैनपुरी जनपद के मूल निवासी रामवकील माथुर शहीद हुए हैं। उनका परिवार बच्चों की पढ़ाई के खातिर अपने तीन बच्चों के साथ शहर में थाना फ्रेंडस कॉलोनी अंतर्गत अहोक नगर पूर्वी में एक किराये के घर में रहता है। पति की शहादत से उनके ऊपर दुखों का पहाड़ टूट पड़ा है। पड़ोस और शहर में रहने वाले लोग और रिश्तेदार शहीद की पत्नी को समझा-बुझाकर ढांढस बंधाने में जुटे हैं।

शहीद रामवकील के भाई भी घर पर पहुंचकर अपनी बहू और भतीजों को हिम्मत दे रहे हैं। शहीद रामवकील की पत्नी गीता देवी ने बताया कि उनके पति रामवकील 10 फरवरी को ही छुट्टी मनाकर ड्यूटी पर गए थे। रोज शाम को उनसे फोन पर भी बात हो जाती थी। गुरुवार को भी दोपहर करीब 01 बजे रामवकील ने फोन करके उनका और बच्चों का हाल-चाल पूछा था। रामवकील 10 फरवरी को जाते समय कहकर गए थे कि अबकी बार छुट्टी पर आकर बैंक से लोन लेकर इटावा में खुद का मकान बनवाएंगे लेकिन आज सीआरपीएफ हेड ऑफिस से उन्हें फोन पर उनकी शहादत की सूचना दी गयी। गीता देवी के दो बच्चे केन्द्रीय विद्यालय में पढ़ते हैं और तीसरा बच्चा अभी 03 साल का है। गीता देवी ने भारत सरकार से पाकिस्तान और आतंकवाद के खिलाफ सख्त कदम उठाने की मांग की है।

शहीद रामवकील के भाई आदेश ने बताया कि उनके भाई रामवकील बहुत सामाजिक और व्यवहार कुशल व्यक्ति थे। उनकी शहादत पर उन्हें गर्व है लेकिन उनके भाई की शहादत का बदला भारत सरकार को लेना चाहिए और पाकिस्तान के खिलाफ सख्त कदम उठाना चाहिए।


Share it
Top