पुलवामा हमला: तालिबान से प्रेरित था आत्मघाती हमलावर आदिल, 11वीं की पढ़ाई छोड़ जैश में हुआ था शामिल

पुलवामा हमला: तालिबान से प्रेरित था आत्मघाती हमलावर आदिल, 11वीं की पढ़ाई छोड़ जैश में हुआ था शामिल

नई दिल्ली । पुलवामा हमले में शामिल स्थानीय आत्मघाती हमलावर आदिल अहमद डार अफगानिस्तान में अमेरिका के खिलाफ तालिबान की कथित जीत से प्रेरित था। बताया जा रहा है कि पुलवामा का रहने वाला डार अफगानिस्तान से अमेरिकी सैनिकों की वापसी की घोषणा के बाद तालिबान द्वारा किए गए जीत के दावे से प्रेरित होकर आत्मघाती हमलावर बना था। मीडिया रिपोर्ट का कहना है 20 वर्षीय डार 11वीं कक्षा में पढ़ता था जब पिछले साल मार्च में वह स्कूल छोड़कर आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद में शामिल हो गया। हमले वाली जगह से उसका घर 10 किमी की दूरी पर है। जैश के आतंकियों ने उसे कई महीने तक प्रशिक्षित किया। इससे पहले ग्राउंड वर्क के तौर पर वह पत्थरबाजी के लिए उकसाने वाली घटनाओं में भी शामिल रहा।

इस बड़े आतंकी हमले के कुछ मिनट बाद ही टेलिग्राम चैनलों ने डार के जिम्मेदारी लेने वाले दो वीडियो शेयर कर दिए। एक वीडियो कश्मीरी में 7 मिनट लंबा है और दूसरा 10 मिनट का उर्दू में है। माना जा रहा है कि ये वीडियो हमले के पहले ही जैश ने शूट किए थे।

बाद में जैश-ए-मोहम्मद की तरफ से जिम्मेदारी लेने वाले इस युवक की पहचान आदिल अहमद डार उर्फ वकास कमांडो के रूप में हुई, जो पुलवामा में गांदीबाग का रहने वाला था। पुलिस सूत्रों ने आदिल के ही संदिग्ध आत्मघाती हमलावर होने पुष्ट की है।

वीडियो में छोटे बालों में दिखाई दे रहे आदिल के पास M4 कार्बाइन और पिस्टल दिखाई देती है। उसके बाईं तरफ एक AK-47 असॉल्ट राइफल भी रखी दिख रही है। दाईं तरफ एक स्नाइपर राइफल दिख रही है, जिसे रात के समय में भी इस्तेमाल किया जा सकता है। 10 ग्रेनेड और मैग्जीन्स भी दिख रही है। पीछे जैश का बैनर दिखाई दे रहा है। वीडियो में आदिल कहता है कि कश्मीर के लोगों के लिए यह मेरा आखिरी संदेश है।


Share it
Top