सहारनपुर में जहरीली शराब पीने से 22 लोगों की हुई मौत से मचा हडकंप,दर्जनो लोगो की हालत गंभीर, सीएम योगी आदित्यनाथ ने दिए जांच के आदेश


मुख्यमंत्री योगी ने मृतकों को दो-दो लाख रुपये देने की घोषणा की है : डीएम सहारनपुर आलोक पांडे

कमिश्नर सहारनपुर सीपी त्रिपाठी और आईजी शरद सचान ने जिला अस्पताल पहुंकर शराब पीने से बीमार हुए लोगों का हाल-चाल जाना

सहारनपुर (गौरव सिंघल)। सहारनपुर जनपद में शुक्रवार को जहरीली शराब पीने से दिन निकलते ही अलग-अलग थाना क्षेत्रों में कुल बाईस लोगों की मौत हो गई है। वहीं करीब 10-12 से भी ज्यादा लोगों की हालत अभी गंभीर बताई जा रही है। एक साथ इतनी मौतो से पूरे सहारनपुर जनपद में हडकंप मचा हुआ है। सूचना के बाद पुलिस ने मौके पर पहुंचकर घटना की जानकारी ली। जानकारी के अनुसार इन सभी लोगों की मौत शराब पीने के कारण हुई है। पुलिस ने शवों को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है और मामले की जांच पड़ताल शुरू कर दी है। पुलिस के मुताबिक जहरीली शराब होने की वजह से मौत होने की आशंका जताई जा रही है। सीएम ने पूरे मामले की जांच के आदेश दिए हैं।

सहारनपुर जनपद के एसएसपी दिनेश कुमार सहित कई पुलिस अधिकारी भी मौके पर पहुंचे और आसपास के लोगों से भी इस मामले में जानकारी ली। मृतकों के परिवारों में कोहराम मचा हुआ है। जानकारी के अनुसार

सहारनपुर में नागल क्षेत्र के गांव ओमाही में शराब के सेवन से मरने वालों में 48 वर्षीय इमरान, 32 वर्षीय पिंटू व 32 वर्षीय कमरपाल और 30 वर्षीय अरविंद बताए जा रहे हैं। वहीं जहरीली शराब पीने से अन्य दस लोगों की हालत बेहद गंभीर बताई जा रही है। इन सभी को अस्पताल में भर्ती कराया गया है। एसएसपी दिनेश कुमार ने बताया कि पहली मौत नागल थाना क्षेत्र के गांव माही की है। वहां रहने वाला दिव्यांग पिंटू अवैध रूप से शराब की बिक्री करता है। प्रतिदिन की तरह गुरुवार की रात को भी गांव के तमाम लोग उससे शराब लेकर गए थे।

रात को ही शराब पीने के बाद शुक्रवार सुबह दो बजे से लोगों की तबीयत बिगड़नी शुरू हुई और सुबह करीब नौ बजते ही लाशें बिछना शुरू हो गईं। इसमें शराब बेचने वाले पिंटू सहित अन्य 18 लोगों की मौत हो गई।

गागलहेड़ी थाना क्षेत्र के गांव शरबतपुर में जहरीली शराब पीने से तीन लोगों की मौत हो गई है। मरने वालों में राजवीर पुत्र कंटू, महिपाल पुत्र कलीराम, धूमसिंह पुत्र बल शामिल हैं। 40 वर्षीय दीपचंद पुत्र कुबूल सिंह निवासी गांव माली को पौने ग्यारह बजे मृत अवस्था में जिला अस्पताल लाया गया। गांव सलेमपुर में भी जहरीली शराब पीने से सत्यवान पुत्र बलवंत और संजय पुत्र यशपाल की मौत हो गई है जबकि तीन लोगों की हालत काफी गंभीर बनी हुई है। इन्हें जॉलीग्रांट ले जाया गया है। देवबंद कोतवाली क्षेत्र के गांव डंकोंवाली में भी एक व्यक्ति की शराब पीने से मौत हुई है। मृतक का नाम विजेंद्र पुत्र मोहहड है। थाना जनकपुरी के गांव मोहिद्दीनपुर में शारब के सेवन से 35 वर्षीय मोनू पुत्र चमन की मौत हुई है। गांव सलेमपुर में मिठ्ठन कश्यप (50) पुत्र गोविंद व गांव मायाखेड़ी में मोतीराम की भी मौत के मुहं में समा चुके हैं। गौरतलब है कि पुलिस ने जहरीली शराब पीने से गांव माली, शरबतपुर, सलेमपुर और गांव ओमाही में अब तक कुल 19 लोगों की मौत होने की पुष्टि की है। उधर लोगों को मौत से स्थानीय निवासियों में गम और गुस्सा है।

गांव ओमाही में लोगों की भीड़ जमा हो गई और मृतक इमरान के परिवार ने पुलिस द्वारा शव का पोस्टमार्टम कराए जाने का विरोध किया। हालांकि प्रशासनिक अधिकारियों ने समझा बुझाकर लोगों को मनाया और शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा। सहारनपुर जिले के डीएम आलोक कुमार पांडेय ने बताया कि मुख्यमंत्री ने मृतकों को दो-दो लाख रुपये देने की घोषणा की है। गंभीर लोगों को पचास-पचास हजार रुपये देने का आश्वासन दिया है। वहीं सीएम ने इस मामले में कड़ी जांच के आदेश दिए हैं और दोषियों पर कार्रवाई करने के भी निर्देश दिए हैं। कमिश्नर सहारनपुर सीपी त्रिपाठी और आईजी शरद सचान ने जिला अस्पताल पहुंकर शराब पीने से बीमार हुए लोगों का हाल-चाल लिया। इसी बीच देवबंद थानाक्षेत्र के गांव बिलासपुर में शराब पीने से एक और मौत होने की सूचना मिली है। बताया जा रहा है कि उत्तराखंड के भगवानपुर से यहां जहरीली शराब आई थी।इस मामले में डीजीपी के आदेश पर एडीजी ने सहारनपुर सभी जिलों के एसएसपी से रिपोर्ट मांगी है। जानकारी के अनुसार थाना नागल के गांव ताजपुर में तीन और लोगों की शराब पीने से मौत हो गई है। मृतक भगवान दास (70) पुत्र बुद्धू, कंवरपाल (60) पुत्र मुखिया, ऋषिपाल (55) पुत्र स्वरूप है। इन्हें मिलकार मरने वालों की कुल संख्या बाईस हो चुकी है।

पुलिस जांच में पता चला है कि ओमाही में अवैध रूप से शराब बेचने वाला दिव्यांग पिंटू जो खुद जहरीली शराब पीने से मर गया है, उसे पूर्व में कैंसर हुआ था जिसके बाद ऑपरेशन कर उसकी आंत भी निकाली गई थी। बावजूद इसके वह शराब बेचता था और खुद भी पीता था।

Share it
Top