प्रधानमंत्री मोदी के महामिलावटी गठबंधन के बयान पर अखिलेश का कटाक्ष.. कौन कहां मिट जायेगा किसी को पता नहीं.!


-सबको पता है कि कौन चोर है और कौन चौकीदार है


लखनऊ । प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के महामिलावटी गठबंधन के बयान पर कटाक्ष करते हुये समाजवादी पार्टी (सपा) अध्यक्ष ने शुक्रवार को कहा कि यह ऐसी महामिलावट है कि कौन कहां मिट जायेगा,किसी को पता नही है।

श्री यादव ने यहां पार्टी मुख्यालय में पत्रकारों से बातचीत में श्री मोदी के गुरूवार को लोकसभा में दिये बयान के परिपेक्ष्य में कहा " भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) और श्री मोदी को पता होना चाहिये कि यह एेसी महामिलावट है कि कौन कहां मिट जायेगा किसी को पता नहीं है। "

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी पर किये गये तंज पर अखिलेश ने कहा " सबको पता है कि कौन चोर है और कौन चौकीदार है हालांकि इस तरह की भाषा सपा के शब्दकोष में नहीं है। समाजवादी सबका सम्मान करते हैं। " आगामी लोकसभा चुनाव में कांग्रेस के साथ महागठबंधन में शामिल होने की किसी भी संभावना को हालांकि उन्होने सिरे से नकार दिया।

उच्च शिक्षण संस्थानों में आरक्षण रोस्टर सिस्टम का विरोध करते हुये श्री यादव ने कहा कि सपा रोस्टर सिस्टम के पूरी तरह खिलाफ है। कुंभ में उन्होने गंगा स्नान के समय संकल्प लिया था कि यदि उनकी पार्टी को मौका मिलेगा तो जातीय आंकड़े लाये जायेंगे और सामाजिक न्याय की लड़ाई को आगे बढाया जायेगा।

कुशीनगर और सहारनपुर में जहरीली शराब से मरने वाले लोगों के प्रति संवेदना व्यक्त करते हुये सपा अध्यक्ष ने कहा कि शराब के सेवन को राज्य की योगी सरकार बढ़ावा दे रही है। इस कारोबार में भाजपा के लोग बढ़चढ़ कर हिस्सा ले रहे हैं। उन्होने कहा कि सपाइयों को गुंडा कहने वाले मुख्यमंत्री को पता होना चाहिये कि उनके मंत्रिमंडल में आपराधिक छवि वाले नेताओं की तादाद कितनी है।

गुरूवार को पेश किये गये बजट को छलावा करार देते हुये श्री यादव ने कहा कि सपा सरकार की योजनाओ पर भाजपा अपने नाम की पट्टी लगाकर जनता को धोखा दे रही है। बिजली के क्षेत्र में इस सरकार ने एक भी यूनिट बिजली का इंतजाम नहीं किया। मेट्रो रेल परियोजनाये उनकी सरकार ने शुरू की थी जिसे धीमी गति से आगे बढाया जा रहा है।

उन्होने कहा कि योगी सरकार को चुनाव के समय जारी संकल्प पत्र में अमल करने की जरूरत है लेकिन विंडबना यह है कि सरकार बनने के साथ ही भाजपा के लोगों को संकल्प पत्र में किये गये वादे याद नहीं है। गन्ना किसानाे को 14 दिन के अंदर बकाये के भुगतान की बात सरकार ने की थी मगर आज भी किसान अपनी उपज का दाम पाने के लिये दर दर की ठोकरें खाने को मजबूर है।

श्री यादव ने कहा कि इन्वेस्टर्स समिट के नाम पर चार लाख 70 हजार करोड़ के एमओयू साइन होने की बात हवा हवाई साबित हुयी है। इन्वेस्टर्स समिट के नाम पर करोड़ो फूंकने के बावजूद राज्य में एक लाख कराेड़ तक का निवेश अब तक नहीं आ सका है।

उन्होने कहा कि कानून व्यवस्था के नाम पर यह सरकार नकारा साबित हुयी है। गौ संरक्षण के नाम पर भाजपा कार्यकर्ताओं की गुंडागर्दी चरम पर है। राज्य में महिलाये खुद को असुरक्षित महसूस कर रही है। व्यापारी,युवा,किसान, मजदूर और महिलाओं समेत राज्य का हर तबका भाजपा से परेशान है और यही वजह लोकसभा चुनाव में उसके पतन का कारक बनेगा।

-छह लोगों ने सपा की प्राथमिक सदस्यता हासिल की

इससे पहले पूर्व भाजपा विधायक शशिबाला पुंडीर, व्यापारी नेता रामबाबू रस्तोगी और अलीगढ मुस्लिम विश्वविद्यालय के उपाध्यक्ष नदीम अंसारी एवं अखिलेश कटियार समेत छह लोगों ने सपा की प्राथमिक सदस्यता हासिल की।


Share it
Top