राजनाथ, सुषमा,गडकरी करेंगे 'सड़क सुरक्षा' सप्ताह की शुरुआत

राजनाथ, सुषमा,गडकरी करेंगे सड़क सुरक्षा सप्ताह की शुरुआत



नयी दिल्ली। केंद्र सरकार महात्मा गांधी की 150वीं जयंती पर सोमवार को 'सड़क सुरक्षा' सप्ताह का आयोजन करेगी जिसमें लोगों को सड़क पर सुरक्षित यात्रा के बारे में जागरूक करने के साथ कार रैली और अन्य कई कार्यक्रम आयोजित किए जाएंगे।

सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्रालय की तरफ से अब तक 12 'सड़क सुरक्षा' सप्ताह आयोजित किए जा चुके हैं और सोमवार को 13वें 'सड़क सुरक्षा' सप्ताह की शुरुआत राष्ट्रपिता की 150वीं जयंती के मौके पर यहां गांधी स्मृति एवं एवं दर्शन राजघाट से की जाएगी।

गृहमंत्री राजनाथ सिंह, विदेश मंत्री सुषमा स्वराज, सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मांत्री नितिन गडकरी तथा मंत्रालय में राज्य मंत्री मनसुख लाल मांडवीय झंडी दिखाकर 'सड़क सुरक्षा' सप्ताह का उद्घाटन करेंगे।

मंत्रालय ने कहा कि सड़कों पर सुरक्षित कैसे चलना है इस बारे में नागरिकों को जागरूक करने के लिए कार रैली के साथ ही सेमिनार और वर्कशॉप आयोजित की जाएगी और सड़क सुरक्षा के नये तरीकों, सड़क सुरक्षा इंजीनियरिंग, मोटर वाहन इंश्योरेंस तथा आपातकालीन सावधानी की जानकारी दी जाएगी। युवाओं, स्वयं सेवी संगठनों, उद्योगों तथा कारपोरेट घराने इस काम में कैसे प्रभावी भूमिका निभा सकते हैं इस बारे में भी विचार किया जाएगा।

इस मौके पर एक कार रैली का भी आयोजन किया जाएगा और यह कार रैली भारत, बांग्लादेश और म्यांमार के उन ऐतिहासिक स्थलों के होकर गुजरेगी जो महात्मा गांधी के जीवन से जुड़े हुए हैं।

मंत्रालय का कहना है कि 'सड़क सुरक्षा' सप्ताह के दौरान आयोजित रैली गांधीजी के जीवन से जुड़े स्थानों को जोडेगी और सड़क सुरक्षा के बारे में लोगों को जागरूक बनायेगी। कार रैली, भारत सरकार द्वारा पिछले वर्ष दो अक्टूबर को महात्मा गांधी की 150वीं जयंती पर प्रारंभ किये गये समारोहों का हिस्सा है।

राजघाट से कार रैली को हरी झंडी दिखायी जाएगी और इसी के साथ राष्ट्रीय सड़क सुरक्षा सप्ताह की भी शुरूआत हो जाएगी। रैली भारत में साबरमती, पोरबंदर, दांडी, यरवदा, सेवाग्राम, जबलपुर, लखनऊ, गोरखपुर, चौरी चौरा, चंपारण, शांति निकेतन और कोलकाता से होते हुए बंगलादेश की राजधानी ढ़ाका पहुंचेगी और 24 फरवरी को म्यांमार के यांगून पहुंचेगी। रैली 7250 किलोमीटर की दूरी तय करेगी।

रैली की एक प्रमुख विशेषता इसका खंबात की खाड़ी को रो-रो वेसल से पार करना है। इस रैली को विदेश मंत्रालय, संस्कृति मंत्रालय आदि से सहयोग मिल रहा है। यह रैली जिन राज्यों से होकर गुजरेगी वहां रैली की अगवानी करने और उसे अागे बढने के लिए झंड़ी दिखाने का कार्यक्रम आयोजित किया जाएगा।

कार्यक्रम का मकसद गांधी के बहुमूल्य विचारों का प्रचार-प्रसार करना है। बंगलादेश और म्यांमार में 'ड्राइव फॉर पीस' रैली की थीम होगी। यह रैली सड़क पर सुरक्षित वाहन चलाने के संदेश देगी और इसको लेकर कार रैली में संदेश भी लिखे होंगे।

Share it
Top