वित्त वर्ष 2019-20: सरकार ने चार महीने के लिए माँगा 34,17,295 करोड़ का लेखानुदान

वित्त वर्ष 2019-20: सरकार ने चार महीने के लिए माँगा 34,17,295 करोड़ का लेखानुदान



नयी दिल्ली- सरकार ने वित्त वर्ष 2019-20 का 97,43,039.70 करोड़ रुपये का कुल बजट पेश करते हुये अप्रैल से जुलाई की अवधि के लिए 34,17,295.38 करोड़ रुपये का लेखानुदान माँगा है।

इस साल लोकसभा चुनाव होने हैं और चुनाव के बाद जून-जुलाई में नयी सरकार दुबारा बजट पेश करेगी। इस दौरान खर्च के लिए लेखानुदान माँगों का प्रावधान होता है।

वित्त मंत्री पीयूष गोयल ने शुक्रवार को लोकसभा में वित्त वर्ष 2019-20 का बजट का पेश किया। पूरे वर्ष के लिए 97,43,039.70 करोड़ रुपये का बजट रखा गया है। इसमें 68,19,525 करोड़ रुपये का भारित प्रावधान और 29,23,514.70 करोड़ रुपये का स्वीकृत प्रावधान किया गया है।

साथ ही अप्रैल से जुलाई 2019 के दौरान संभावित रूप से खर्च किये जाने वाले व्यय को पूरा करने के लिए आवश्यक राशि के रूप में 34,17,295.38 करोड़ रुपये का लेखानुदान माँगा है। इसमें 22,84,264.49 करोड़ रुपये की भारित माँग और 11,33,030.89 करोड़ रुपये की स्वीकृत माँग का प्रस्ताव है।

सरकार ने बताया है कि कुछ विभागों को छोड़कर लेखानुदान माँगे आम तौर पर पूरे वर्ष के बजट का एक-तिहाई है।


Share it
Top