राष्ट्रपति के अभिभाषण के साथ संसद का बजट सत्र शुरू..मोदी सरकार के कार्यकाल में 21 करोड़ गरीबों को बीमा कवच प्रदान किया गया : कोविंद

राष्ट्रपति के अभिभाषण के साथ संसद का बजट सत्र शुरू..मोदी सरकार के कार्यकाल में 21 करोड़ गरीबों को बीमा कवच प्रदान किया गया : कोविंद


नयी दिल्ली। संसद के केन्द्रीय कक्ष में आज दोनों सदनों की संयुक्त बैठक में राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के अभिभाषण के साथ ही बजट सत्र शुरू हो गया।

तेरह फरवरी तक चलने वाले बजट सत्र के दौरान संसद की कुल 10 बैठकें होंगी। शुक्रवार यानी एक फरवरी को अंतरिम बजट पेश किया जायेगा। आम चुनाव से पहले यह संसद का आखिरी सत्र है।

श्री कोविंद ने अभिभाषण में राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन सरकार के कार्यकाल का अब तक का रिपोर्ट कार्ड पेश करते हुए सरकार की प्रमुख उपलब्धियों को गिनाया।

इससे पहले संसद परिसर पहुंचने पर उप राष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू , लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन , प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और संसदीय कार्य मंत्री नरेन्द्र तोमर ने राष्ट्रपति का स्वागत किया। श्री कोविंद बंद गले का काला कोट पहनकर आये।

अभिभाषण के दौरान पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह , भाजपा के वरिष्ठ नेता लाल कृष्ण आडवाणी, गृह मंत्री राजनाथ सिंह और अन्य केन्द्रीय मंत्री तथा कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी सहित सभी प्रमुख नेता मौजूद थे।

मोदी सरकार के कार्यकाल में 21 करोड़ गरीबों को बीमा कवच प्रदान किया

राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने मोदी सरकार को "गरीबों की पीड़ा समझने वाली सरकार" बताते हुये गुरुवार को कहा कि उसने समाज के वंचित लोगों के स्वास्थ्य का ध्यान रखा है और 21 करोड़ से ज्यादा गरीबों को बीमा सुरक्षा कवच प्रदान किया है।

कोविंद ने यहाँ बजट सत्र के पहले दिन संसद के दोनों सदनों की संयुक्त बैठक को संबोधित करते हुये कहा, "हम इस बात से भली-भाँति परिचित हैं कि बीमारी के इलाज का खर्च, किसी गरीब परिवार को और भी गरीब बनाता है। इस पीड़ा को समझने वाली सरकार ने पिछले वर्ष 'आयुष्मान भारत योजना' शुरू की। सिर्फ एक रुपया प्रति माह के प्रीमियम पर 'प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा योजना' और 90 पैसे प्रतिदिन के प्रीमियम पर 'प्रधानमंत्री जीवन ज्योति बीमा योजना' के रूप में लगभग 21 करोड़ गरीब भाई-बहनों को बीमा सुरक्षा कवच प्रदान किया गया है।"

राष्ट्रपति ने जरूरी दवायें कम कीमत पर उपलब्ध कराने के लिए भी सरकार की तारीफ की। उन्होंने कहा कि 'प्रधानमंत्री भारतीय जन औषधि योजना' के तहत देश भर में अब तक 600 से ज्यादा जिलों में 4,900 जन औषधि केन्‍द्र खोले जा चुके हैं। इन केन्‍द्रों में 700 से ज्यादा दवाइयाँ बहुत कम कीमत पर उपलब्ध कराई जा रही हैं।

श्री कोविंद ने कहा कि सरकार कुपोषण को दूर करने के लिए भी पूरे जोर-शोर से काम कर रही है। उन्होंने कहा "सरकार गरीब महिलाओं और बच्चों में कुपोषण को समाप्त करने के लिए भी पूरी शक्ति से काम कर रही है। कुपोषण के लिए जिम्मेदार परिस्थितियों को दूर करने के लिए तथा कुपोषण से पीड़ित लोगों के लिए सरकार ने राष्ट्रीय पोषण मिशन शुरू किया है।"

इसके साथ ही स्वास्थ्य से जुड़े बुनियादी ढाँचों को मजबूत बनाने के सरकार के प्रयासों का उल्लेख करते हुये राष्ट्रपति ने कहा "चाहे शहर हो या गाँव, सरकार स्वास्थ्य से जुड़े बुनियादी ढाँचे को मजबूत करने का काम तेजी से कर रही है। गाँवों में चिकित्सकों की कमी को दूर करने के लिए बीते चार वर्षों में मेडिकल की पढ़ाई में 31 हजार नयी सीटें जोड़ी गई हैं। सरकार द्वारा नये चिकित्सा कॉलेज खोले जा रहे हैं, जिला अस्पतालों को अपग्रेड किया जा रहा है और देश की हर बड़ी पंचायत में वेलनेस सेंटर खोले जा रहे हैं। "

Share it
Top