उप्र में गठबंधन की घोषणा से पहले सपा-बसपा ने नहीं ली सलाह..देश की सबसे पुरानी पार्टी से कोई बातचीत नही की थी: बब्बर

उप्र में गठबंधन की घोषणा से पहले सपा-बसपा ने नहीं ली सलाह..देश की सबसे पुरानी पार्टी से कोई बातचीत नही की थी: बब्बर

लखनऊ ।उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष राजबब्बर ने लोकसभा चुनाव में पार्टी के बेहतर प्रदर्शन करने का दावा करते हुये कहा कि समाजवादी पार्टी(सपा)-बहुजन समाज पार्टी(बसपा) ने गठबंधन करने से पहले देश की सबसे पुरानी पार्टी से कोई बातचीत नही की थी।

श्री बब्बर ने बुधवार को पत्रकारों से कहा कि ' हम उत्तर प्रदेश में काफी लंबे समय से सत्ता से बाहर हैं, लेकिन सपा और बसपा ने गठबंधन पर बातचीत के लिए हमसे संपर्क नहीं किया। सार्वजनिक रूप से दोनों ने प्रदेश में गठबंधन करने की घोषणा कर दी।" उन्होंने कहा "उन्हें विश्वास हैै कि कांग्रेेस अब और अधिक मजबूती के साथ चुनाव मैदान में उतरेगी। दोनों क्षेत्रीय दलों को दिखाएंगे कि कांग्रेस को दूर रखने का उनका निर्णय कितना गलत था।"

उन्होेंने कहा कि "हमने हाल ही में छत्तीसगढ़, मध्य प्रदेश और राजस्थान में अपनी ताकत दिखाई है, जहां हम अकेले चुनाव लड़े थे। वहां पर बसपा, सपा और भाजपा चुनाव मैदान में थे, लेकिन हमने जीत हासिल की और सरकार बनाई। ऐसा ही हम अधिक सीट जीतकर लोकसभा चुनाव में भी करेंगे।"

कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि पार्टी ने वर्ष 2009 के लोकसभा चुनाव में लगभग वही सीटें जीती जिन पर सपा और बसपा ने जीत दर्ज की थी। उत्तर प्रदेश में लगभग तीन दशक से कांग्रेस सत्ता में नहीं है। प्रदेश की जनता समझ गयी है कि जनादेश और समर्थन किसके साथ है। कांग्रेस सिर्फ विपक्ष में एकता चाहती है। सभी दल भाजपा को हराना चाहते है।

प्रदेश में गठबंधन के लिए अन्य छोटे दलों के साथ बातचीत के बारे में पूछे जाने पर श्री बब्बर ने कहा कि वे उन सभी लोगों का हमेशा स्वागत करते हैं जो भाजपा को हराने के लिए उनके साथ शामिल होना चाहते थे। कांग्रेस राज्य की सभी 80 संसद सीटों पर चुनाव लड़ने की तैयारी कर रही है।

श्री बब्बर ने शिवपाल यादव द्वारा नवगठित प्रगतिशील समाजवादी पार्टी (पीएसपी) के साथ मिलकर चुनाव लड़ने से इनकार नहीं किया। उन्होंने कहा कि उनकी पार्टी सहयोगी दलों के साथ मिलकर चुनाव लड़ेगी।

उन्होंने कहा "अचानक पैराशूट से उतरे नेताओं का पार्टी में स्वागत नहीं किया जाएगा और केवल पुराने लेफ्टिनेंट को टिकट वितरण में प्राथमिकता दी जाएगी। पार्टी हमेशा टिकट देते समय पुराने लेफ्टिनेंटों पर विचार करती है, लेकिन फिर भी पार्टी के वरिष्ठ नेता जिन्होंने हमें छोड़ दिया वे अब भाजपा के खिलाफ हमारी लड़ाई में शामिल होना चाहते है, कांग्रेस में उनका है। टिकट केवल उन्हीं को दिया जाएगा जो चुनाव जीतने में सक्षम होंगे। श्री बब्बर ने खुलासा किया कि कई वरिष्ठ नेता उनके संपर्क में हैं और जल्द ही पार्टी में शामिल हो सकते हैं।

श्री बब्बर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की दस फरवरी को लखनऊ में होने वाली रैली की तैयारी की समीक्षा करने के लिए मंगलवार को यहां आए थे।

Share it
Top