चौकीदार गरीबों के हक को लूटने वालों को सजा दिला कर ही मानेगाः प्रधानमंत्री

चौकीदार गरीबों के हक को लूटने वालों को सजा दिला कर ही मानेगाः प्रधानमंत्री



बिचौलिए इकट्ठा होकर मुझे रास्ते से हटाने में लगे हैं लेकिन जनता उनका अभियान विफल करेगी

भुवनेश्वर/ बलांगीर। प्रधानममंत्री नरेन्द्र मोदी ने मंगलवार को कहा कि गरीबों के लिए विभिन्न योजनाओं में जा रही धनराशि जो पहले बिचौलिये व दलाल ले रहे थे, उसे उनकी सरकार ने रोकने का कार्य किया है। इस कारण जिन लोगों के जेब में यह राशि जाती थी वे सब इकट्ठे होकर उन्हें रास्ते से हटाने में लगे हैं। उन्होंने कहा कि भगवान जगन्नाथ की धरती से कहना चाहता हूं कि उनका चौकीदार गरीबों की हक को लूटने वालों का काम बंद करके ही रूकने वाला है। उन्होंने कहा कि चौकीदार सजा दिला कर ही मानेगा।

बलांगीर में भारतीय जनता पार्टी द्वारा आयोजित एक विशाल जनसभा को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री ने यह बात कही।

प्रधानमंत्री ने कहा कि उनकी सरकार ने छह करोड़ फर्जी राशन कार्ड, फर्जी गैस कनेक्शन, गलत नाम से पेंशन हथियाने वाले लोगों को खोज कर निकालने के साथ-साथ तिजोरी लूटने वाले ऐसे लोगों के नामों को रद्द कर दिया है। देश के आम लोगों के हक को छिनकर बिचौलियों द्वारा 90 हजार करोड़ रुपये की लूट होती थी। अब ऐसे ही सारे लोग उनके खिलाफ हो गये हैं और उनसे बदला लेने की फिराक में हैं| लेकिन उन्हें विश्वास है कि देश की आम जनता के आशीर्वाद से उनका यह प्रयास विफल होगा।

प्रधानमंत्री ने कहा कि देश का कोई भी नागरिक भूखा न सोये, इसके लिए केन्द्र सरकार 24-25 रुपये में खरीदकर दो रुपये प्रति किलो गेंहू व 30-32 रुपये में खरीदकर व तीन रुपये में चावल उपलब्ध कराती है| लेकिन देशभर में एक ऐसा समूचा तंत्र बना था जो फर्जी राशन कार्ड के जरिये उसे उठवा लेता था। ऐसा कर गरीबों के पेट पर लात मारा जाता था। केन्द्र सरकार द्वारा भेजा गया वही अनाज दूसरी दुकान पर अधिक मूल्य देकर खरीदने के लिए गरीब मजबूर होता था।

प्रधानमंत्री ने कहा कि यह सारा पैसा दलाल व बिचौलियों के जेब में जाता था। वे बड़ी-बड़ी गाड़ियां, बंगला खरीदते थे| वे हवाई जहाज में घूमते थे। उन्होंने इस लिकेज को बंद किया। स्वाभविक है कि ये लोग उन्हें गाली देंगे। यही कारण है कि उनके खिलाफ झूठे आरोप लगाये जा रहे हैं। उन्हें विश्वास है कि देश की आम जनता के आशीर्वाद से उनका यह प्रयास विफल होगा।

प्रधानमंत्री ने कहा कि भारत सांस्कृतिक रुप से दुनिया का सिरमौर है। भारत की सभ्यता सबसे समृद्ध रही है। ज्ञान को लेकर भारत विश्व में अव्वल रहा है। अपने इस श्रेष्ठता को नयी ऊंचाई देने का काम उनकी सरकार कर रही है। उन्होंने कहा कि दिल्ली में लंबे समय तक राज करने वाले सल्तनत को लोगों को भारत के इस सांस्कृतिक विरासत का पता नहीं है।

उन्होंने कहा कि पूर्व की सरकारों ने हमारे इस धरोहर व संपदा को लेकर जितनी गंभीरता दिखानी चाहिए थी, नहीं दिखाई। उन्होंने कहा कि भारत की प्राचीन मूर्तियां देश की धरोहर हैं। भारत से इन प्राचीन व अमूल्य मूर्तियों की चोरी कर विदेशों में ले जाने का सिलसिला जारी था। लेकिन उनकी सरकार के आने के बाद पुरानी मूर्तियों को भारत में वापस लाने के सफल प्रयास गत साढ़े चार सालों से लगातार चल रहा है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि ऐसा नहीं है कि पहले की सरकारों को इसका पता नहीं था। लेकिन संस्कृति के प्रति संवेदना, प्रेम उन सरकारों के पास नहीं थी। वर्तमान सरकार व पूर्व की सरकारों में यही अंतर है। उन्होंने कहा कि योग को पूरे विश्व में मान्यता मिली है। अब पूरे विश्व में अंतरराष्ट्रीय योग दिवस को मनाया जा रहा है। यह मोदी के गौरव की बात नहीं है, यह हमारे पूर्वजों का ज्ञान व धरोहर है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि देश में कुछ लोग सरदार पटेल, शिवाजी की प्रतिमा का विरोध कर रहे हैं। अभी अंडमान में द्वीपों का नाम नेताजी के नाम पर किया तो इस पर भी उन्हें दिक्कत आयी। उन लोगों को भारत को असली संपदा की न तो समझ है न ही पर्यटन की संभावना का पता है।

उन्होंने कहा कि उनकी सरकार गत साढ़े चार वर्षों में प्राचीन धरोहरों के मरम्मत व सौंदर्यीकरण पर विशेष ध्यान दे रही है। इसी क्रम में आज ओडिशा के बौद्ध जिले के गंधहाराडी नीलमाधव सिद्धेश्वर मंदिर के पुनरोद्धार व नवीकरण कार्य का उद्घाटन किया गया| इसी तरह कलाहांडी जिले के असुरगढ़ दुर्ग के पुनरोद्धार व नवीकरण कार्य का भी शुभारंभ किया गया है। उन्होंने कहा कि ओडिशा में ऐसे अनेक मंदिर हैं जो अनेक शताब्दियां पहले बने हैं। ओडिशा के हर जिले में आस्था के महत्वपूर्ण मंदिर हैं। ये हमारी सभ्यता की पहचान हैं। ओडिशा के अनेक मंदिरों के नवीनीकरण व सौंदर्यीकरण का बीडा दिल्ली में बैठी भाजपा सरकार ने उठाया है। पहले की सरकारों ने इसे अपने ही हाल पर छोड़ दिया था।

उन्होंने कहा कि कालाहांडी का असुरगढ़ किला कभी राजनीतिक व वाणिज्यिक केन्द्र हुआ करता था। लेकिन इस पर भी कभी ध्यान नहीं दिया गया था। राष्ट्र के गौरव की प्रतिबद्धता के साथ केन्द्र की भाजपानीत सरकार कार्य कर रही है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि केन्द्र सरकार जनजाति वर्ग के लोगों के विकास के लिए प्रतिबद्ध है। देश के खनिज संपदा वाले जिलों में रहने वाले जनजातीय लोगों को खनिज संपदा का लाभ नहीं मिलता था। इसे ध्यान में रख कर केन्द्र सरकार ने खनन कानून में परिवर्तन कर खनिज संपदा वाले जिलों के लिए डिस्ट्रिक मिनरल डेवलपमेंट फंड का प्रावधान किया है। इस फंड में ओडिशा सरकार को चार हजार करोड़ रुपये की धनराशि प्राप्त हुई है। लेकिन दुख की बात यह है कि ओडिशा सरकार सो रही है। यह पैसा ओडिशा के जनजातीय लोगों के लिए है। दुःख की बात यह है कि चार हजार करोड़ में से यहां की सरकार बहुत कम पैसा खर्च कर पायी है। उन्होंने कहा कि चुनाव आएंगे और जाएंगे, लेकिन इस पैसे का उपयोग जनजाति वर्ग के लोगों के लिए होना चाहिए।

प्रधानमंत्री ने कहा कि अवसर की असमानता से खाई अधिक बढ़ती है। इसलिए उनकी सरकार ने संविधान में संशोधन कर साधारण वर्ग के गरीब परिवारों के लिए दस प्रतिशत आरक्षण का प्रावधान किया है। उन्होंने कहा कि अनुसूचित जाति, जनजाति व पिछड़े वर्ग के सांविधानिक हक को छुए बिना, छेड़े बिना यह नया उनकी सरकार ने किया है। ओडिशा के सामान्य वर्ग के परिवारों को अपने सपने पूरे करने के लिए यह लाभदायक रहेगा।

प्रधानमंत्री ने कहा कि ओडिशा सूर्य देव की धरती है। कोणार्क से निकली रोशनी पूरे भारत को सदियों से रोशन करती रही है। आज उन्होंने 15 सौ करोड़ रुपये से अधिक की परियोजनाओं का शिलान्यास व शुभारंभ किया है। उन्होंने कहा कि गत एक माह के अंदर 20 हजार करोड़ रुपये से अधिक की धन राशि का विकास के कार्य का लोकार्पण या काम शुरु किया गया है। उन्होंने कहा कि किसी ने भी कल्पना नहीं की होगी कि भारत सरकार इतने कम समय में 20 हजार करोड़ रुपये का काम किया जाएगा।

उन्होंने कहा कि ये तमाम परियोजनाओं यहां के लोगों के जीवन को आसान बनाएगी। लोगों को रोजगार प्रदान करेगी। यह लोगों की आजीविका से जुड़े हुए हैं।

प्रधानममंत्री ने अपने भाषण में छत्तीसगढ़ में नक्सली हमले में मारे गये दूरदर्शन के कैमरामैन अच्युत साहू को याद किया जो इसी जिले के रहने वाले थे। उन्होंने स्वर्गीय अच्युत साहु को श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए कहा कि कायर नक्सलियों ने उनकी हत्या कर दी। दूरदर्शन के माध्यम से देश की तस्वीर को दिखाने में जुटे युवा साथी की हत्या अत्यंत दुखद है।

इससे पहले प्रधानमंत्री ने रेलवे स्टेशन के पास सरकारी कार्यक्रम में हिस्सा लेते हुए 1545 करोड़ रुपये के विभिन्न विकास परियोजनाओं का लोकार्पण व शिलान्य़ास किया।

इस जनसभा में केन्द्रीय मंत्री धर्मेन्द्र प्रधान, जुएल ओराम, भाजपा प्रवक्ता डा संबित पात्रा, प्रदेश अध्यक्ष बसंत पंडा व पार्टी के वरिष्ठ नेता उपस्थित थे।


Share it
Top