मायावती का 63वां जन्मदिन आज.. बोलीं झूठे वादों वाली केन्द्र की नरेन्द्र मोदी सरकार का सूपड़ा साफ करेगा सपा-बसपा गठबंधन

मायावती का 63वां जन्मदिन आज.. बोलीं झूठे वादों वाली केन्द्र की नरेन्द्र मोदी सरकार का सूपड़ा साफ करेगा सपा-बसपा गठबंधन


लखनऊ । देश की जनता से आगामी लोकसभा चुनाव के दौरान भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के झूठे वादों और प्रलोभन से सावधान रहने की नसीहत देते हुये बहुजन समाज पार्टी (बसपा) सुप्रीमो मायावती ने मंगलवार को कहा कि समाजवादी पार्टी (सपा) से किया गया गठबंधन केन्द्र की नरेन्द्र मोदी सरकार का सूपड़ा साफ कर देगा।

अपने 63वें जन्मदिन के मौके पर पार्टी के प्रदेश कार्यालय में आयोजित संवाददाता सम्मेलन में सुश्री मायावती ने कहा कि सपा-बसपा गठबंधन से भाजपा के होश उड़े हुये हैं। इस गठबंधन की मजबूती के लिये दोनो दलों के नेताओं और कार्यकर्ताओं को कड़ी मेहनत और एकजुटता का प्रदर्शन करना होगा ताकि आगामी चुनाव में पूंजीपतियों का भला चाहने वाली सरकार से निजात मिल सके।

उन्होने कहा कि पिछले लोकसभा चुनाव में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा देश की जनता से किये गये वादे हवा हवाई साबित हुये हैं जबकि इस बार चुनाव की आहट होते ही श्री मोदी देश भर में जनसभायें कर वादे और प्रलोभन की कवायद में जुट गये हैं।

उन्होने कहा कि भाजपा सरकार के कार्यकाल में सिर्फ मुट्ठी भर पूंजीपतियों का ही भला हुअा है जबकि मजदूर,किसान नौजवान और अल्पसंख्यक खुद को ठगा महसूस कर रहे हैं। श्री मोदी ने पिछले चुनाव में वादा किया था कि उनकी सरकार आते ही विदेशों से काला धन लाया जायेगा और हर एक के खाते में 15-15 लाख रूपये डाले जायेंगे जिसने गरीब एवं किसानो की उम्मीदों पर पानी फेरा है।

किसानो की पूर्ण कर्ज माफी की वकालत करते हुये सुश्री मायावती ने कहा कि इस संबंध में सरकार को स्वामीनाथन कमेटी की रिपोर्ट को ईमानदारी से लागू करना चाहिये। छोटी छोटी कर्जमाफी से किसानो का भला होने वाला नहीं है। सरकार को इस दिशा में स्पष्ट कार्यप्रणाली और नीतियों के साथ चलने की जरूरत थी जिस पर वह नाकाम साबित हुयी है।सुश्री मायावती ने कहा कि भाजपा ने अपने शासनकाल में सरकारी एजेंसियों का जमकर दुरूपयोग किया है। खनन के झूठे मामले में सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव का नाम सीबीआई जांच के लिये उछालना इसका प्रत्यक्ष उदाहरण है। भाजपा के कार्यकाल में भ्रष्टाचार चरम पर है। यह सरकार संसद से लेकर आम जनता तक अपनी बेगुनाही की सफाई देने में लगी है। यदि सरकार की नीयत पाक साफ होती तो वह सफाई देने की बजाये सरकारी धन और ऊर्जा का उपयोग जनकल्याणकारी कार्यो में लगाने का काम करती।

उन्होने कहा कि केन्द्र और राज्य की भाजपा सरकार कानून व्यवस्था, भ्रष्टाचार और मंहगाई समेत सभी मोर्चो पर विफल रही है। किसानों का सच्चा हितैषी होने का नाटक करने वाली भाजपा के कार्यकाल में 70 फीसदी किसान सूदखोरों के जाल में फंसे हुये है।

आर्थिक रूप से कमजोर सवर्णो को दस फीसदी आरक्षण देने के सरकार के फैसले का स्वागत करते हुये बसपा प्रमुख ने कहा कि गरीब सवर्णो के उत्थान के लिये उनकी पार्टी पहले से ही आरक्षण की मांग करती रही है हालांकि उन्हे संदेह है कि संकीर्ण धार्मिक भावना रखने वाली भाजपा सरकार के कार्यकाल में आरक्षण का लाभ अल्पसंख्यकों खासकर मुस्लिम वर्ग के लोगों को ईमानदारी से मिल सकेगा।

उन्होने कहा कि आजादी के समय सरकारी नौकरियों में मुस्लिमों की हिस्सेदारी 33 प्रतिशत थी जो मौजूदा समय में घट कर दो से तीन फीसदी रह गयी है। उनकी पार्टी मुस्लिमों के लिये आर्थिक आधार पर आरक्षण की मांग करती है और करती रहेगा।


Share it
Top