हिन्दी को अनिवार्य भाषा बनाये जाने संबंधी खबरें भ्रामक: जावड़ेकर

हिन्दी को अनिवार्य भाषा बनाये जाने संबंधी खबरें भ्रामक: जावड़ेकर


नयी दिल्ली। मानव संसाधन विकास मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने नयी शिक्षा नीति के मसौदे में हिंदी को अनिवार्य भाषा बनाये जाने संबंधी खबरों का जोरदार खंडन किया है।

श्री जावेडकर ने कहा है कि मीडिया में प्रकाशित यह खबर भ्रामक है कि नयी शिक्षा नीति में हिंदी को अनिवार्य बनाया गया है। उन्होंने कहा कि हिंदी ही नही , बल्कि किसी भी भाषा को अनिवार्य नहीं बनाया गया है।

उन्होंने कहा, " हम देश की विविधता को बनाये रखने के पक्षधर है और सभी भाषा का सम्मान करते हैं इसलिए किसी भी एक भाषा को अनिवार्य बनाए जाने का सवाल ही नही उठता है। सरकार जल्द ही नयी शिक्षा नीति के मसौदे को सामने रखेगी।"

गौरतलब है कि भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान परिषद के पृर्व प्रमुख के कस्तूरीरंगन की अध्यक्षता वाली समिति ने नयी शिक्षा नीति के मसौदे को सरकार को सौंप दिया है। [रॉयल बुलेटिन अब आपके मोबाइल पर भी उपलब्ध ,ROYALBULLETIN पर क्लिक करें और डाउनलोड करे मोबाइल एप ]


Share it
Top