लोकतंत्र में बंदूक के बजाए संवाद से निकालें समाधान..जगदलपुर में चुनावी जनसभा में माओवादी व कांग्रेस पर जमकर बरसे प्रधानमंत्री

लोकतंत्र में बंदूक के बजाए संवाद से निकालें समाधान..जगदलपुर में चुनावी जनसभा में माओवादी व कांग्रेस पर जमकर बरसे प्रधानमंत्री


रायपुर / जगदलपुर। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी छत्तीसगढ़ में चल रहे विधानसभा चुनावी रण में पहले चरण के मतदान से पूर्व शुक्रवार को चुनावी दौरे पर आये। यहां पर बस्तर संभाग के जगदलपुर स्थित लालबाग मैदान में जनसभा को सम्बोधित करते हुए मोदी ने कांग्रेस और माओवादियों पर जमकर निशाना साधा।

उन्होंने माओवादियों को राक्षसी मनोवृति करार देते हुए कहा कि जिस उम्र में बच्चों के हाथों में कलम होनी चाहिए| उस उम्र में राक्षसी मनोवृति के लोग बच्चों के हाथों में बंदूक पकड़ा देते हैं। मोदी ने कहा कि, जो स्कूलों में आग लगा दे, वो राक्षसी प्रवृति नहीं तो और क्या है? जो युवाओं को रोजगार ना करने दे, वो राक्षसी मनोवृति नहीं तो और क्या है?

उन्होंने माओवाद को संचालित करने वाले अर्बन नक्सलवाद पर निशाना साधते हुए कहा कि ''अर्बन माओवादी एयरकंडीशन रूम में रहते हैं, अच्छे से और साफ सुथरे रहते हैं। अच्छे लोगों के साथ उठते बैठते हैं। बड़ी-बड़ी गाड़ियों में चलते हैं, लेकिन रिमोट कंट्रोल से जंगलों में माओवाद को संचालित करते हैं। कुछ लोग ऐसे हैं, जो अर्बन माओवाद के साथ खड़े होते हैं। अगर सरकार अर्बन माओवाद पर कार्रवाई करती है तो वो इसका विरोध करते हैं।''

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, अर्बन माओवाद के साथ खड़े होने वाले लोगों को माफ कभी करेंगे क्या? उन्होंने कहा कि आपकी जिंदगी बर्बाद करने वाले लोगों को माफ करेंगे क्या? ऐसे लोगों को छत्तीसगढ़ में घुसने देंगे क्या? हमें बस्तर बदलना है कि नहीं। हमें बस्तर का भविष्य संवारना है कि नहीं, माता-बहनों का भविष्य बदलना है कि नहीं? इसलिए अनुरोध है कि बस्तर की सभी सीटों पर कमल ही खिलना चाहिए। छत्तीसगढ़ में कोई और आने वाला नहीं है लेकिन अगर किसी कोने में कोई और आ गया तो बस्तर के सपनों में आग लगा देगा।

अटल जी के सपनों के लिए आता रहूंगा छत्तीसगढ़

प्रधानमंत्री ने कहा कि अटल जी ने छत्तीसगढ़ के लिए जो सपने देखें थे, उनको पूरा करने के लिए मैं बार-बार छत्तीसगढ़ आया हूं। जब तक मैं अटल जी के सपने पूरे नहीं कर देता तब तक चैन से बैठने वाला नहीं हूं। छत्तीसगढ़ में भारतीय जनता पार्टी के नेतृत्व में जो विकास यात्रा चली है उसको रुकने नहीं देना है। वो समय अब दूर नहीं जब छत्तीसगढ़ देश के उत्तम राज्यों में से एक होगा। 10 साल तक केन्द्र में जो कांग्रेस की सरकार थी| उसने छत्तीसगढ़ में हो रहे विकास कार्यों को अटकाने और लटकाने के भरसक प्रयास किए। इसके बावजूद रमन सिंह ने राज्य की विकास यात्रा रुकने नहीं दी। कांग्रेस पार्टी दलितों, पीड़ितों, शोषितों, वंचितों और गरीबों को सिर्फ और सिर्फ अपना वोट बैंक मानती है।

कांग्रेस पार्टी इन्हें इंसान के रुप में देखने को तैयार नहीं है। देश में कांग्रेस की कई सरकारें चली, लेकिन कभी आदिवासियों के विकास की चिंता नहीं की। अटल जी देश के पहले प्रधानमंत्री थे जिन्होंने आदिवासियों के विकास के लिए एक अलग से मंत्रालय बनाया और देश में आदिवासियों के विकास के लिए वैज्ञानिक तरीके से आगे बढ़ने का सिलसिला शुरू किया। वो दिन भी दूर नहीं जब छत्तीसगढ़ का भविष्य बस्तर की आर्थिक समृद्धि से जुड़ने वाला है।

कांग्रेसियों पर साधा निशाना

प्रधानमंत्री ने आखिर में कहा, हमारे देश के पत्रकारिकता जगत से जुड़ा हुआ हमारा एक साथी लोकतंत्र (विधानसभा चुनाव) के पर्व को कैमरे में कैद करने जंगलों के बीच गया। वह लोगों से मिलकर लोकशाही का गुणगान के लिए अपना जीवन खपा रहा था। लेकिन उसे माओवादियों ने गोलियों से छलनी कर दिया। उसे मौत का शिकार बना दिया। क्या गुनाह था उसका। वह आपके कल्याण की बात लेकर आया था, आपके सपनों को दुनिया के सामने दिखाने के लिए वह अपने कंधे पर कैमरा लेकर घूम रहा था, वो बंदूक लेकर नहीं आया था। फिर उस कैमरामैन को क्यों मार दिया गया। अभी कुछ दिन पूर्व हमारे पांच जवान शहीद हो गये। ये माओवादी निर्दोषों की हत्या करें और कांग्रेस के नेता उन्हें क्रांतिकारी कहें क्या आपको मंजूर है? एक निर्दोष पत्रकार को मौत के घाट उतार दिया गया वो आपको क्रांतिकारी लगने लगे हैं| यह देश कभी कांग्रेस के नेताओं को माफ करने वाला नहीं है। देश को गुमराह करना, झूठ बोलना उनकी प्रवृत्ति बन गई है। ऐसी कांग्रेस पार्टी से किसी का भविष्य नहीं होगा। हमारा मंत्र है विकास सिर्फ विकास और उनका कारोबार है झूठ बोलो और सिर्फ झूठ बोलो। इसलिए 12 नवम्बर को मतदान के दिन बार-बार भाजपा, यह मंत्र लेकर मतदाताओं को मतदान करने के लिए अपली की। इस चुनाव को रक्तरंजित करने का सपना देखने वालों को अभूतपूर्व मतदान कर जवाब दीजिए।

लोकतंत्र ही हमारी समस्याओं को समाधान दे सकता है। तय कर लें कि विवाद का सवांद से समस्याओं का समाधान हो सकता है। यही रास्ता लोकतंत्र का होता है। बंदूक के रास्ते से समस्याओं को हल निकलने वाला नहीं, हमें शांति की राह पर चलना है। 18 साल के छत्तीसगढ़ के सपने एक नौजवान के सपने है। वह अधीर होता है और वह ज्यादा इंतजार नहीं करता है, मैं भी अधीर हूं आपके विकास के लिए। आइये आपके सपने हमारा अधीर, आपके सपने हमारा पुरूषार्थ, आपके सपने हमारा संकल्प। आओ चलकर निकल पड़े और मिलकर कमल खिलाएं, फिर भारतीय जनता पार्टी की सरकार बनाएं।रॉयल बुलेटिन की नई एप प्ले स्टोर पर आ गयी है।royal bulletin news लिखे और नई app डाउनलोड करें


Share it
Top