देश के 90 प्रतिशत से अधिक इलाके खुले में शौच से मुक्त: मोदी

देश के 90 प्रतिशत से अधिक इलाके खुले में शौच से मुक्त: मोदी

नयी दिल्ली । प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने स्वच्छता को स्वभाव में परिवर्तन का यज्ञ बताते हुए कहा कि देशवासियों के इस आन्दोलन के कारण ही पिछले चार साल में देश के 90 प्रतिशत के अधिक इलाके खुले में शौच से मुक्त हो गए हैं जबकि गत 60-65 सालों में केवल चालीस प्रतिशत इलाके ही मुक्त हो पाए थे । मोदी ने शनिवार को वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिये 'स्वच्छता ही सेवा है' पखवाड़े का उद्घाटन करते हुए यह बात कही। उन्होंने देश के कोने कोने में सैंकड़ों स्वच्छताग्राहियों से भी वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिये बात की और इस आन्दोलन में लोगों के योगदान की सराहना की। उन्होंने स्वच्छता अभियान के दूत एवं इस सदी के महानायक अमिताभ बच्चन और मशहूर उद्योगपति रतन टाटा से भी बात की।

उन्होंने कहा कि जब चार साल पहले स्वच्छता अभियान शुरू हुआ था तो किसी ने यह कल्पना नहीं की थी कि चार साल में देश के 20 राज्य एवं केन्द्रशासित क्षेत्र 450 जिले तथा साढ़े चार लाख से अधिक गाँव खुले में शौच से मुक्त हो गए और करीब नौ करोड़ शौचालय बन गये। इस अभियान से लोगों के स्वास्थ्य पर सकारात्मक असर पड़ा है और कई गंभीर बीमारियों से मुक्ति मिलेगी । उन्होंने कहा कि जब यह अभियान शुरु हुआ था तो केवल 40 प्रतिशत इलाके ही स्वच्छ थे लेकिन इन चार सालों में 90 प्रतिशत से अधिक इलाके खुले में शौच से मुक्त हो गए हैं यानि जो काम पिछले 60-65 सालों में नही हुआ वह केवल चार वर्षों में हो गया। उन्होंने कहा कि स्वच्छता का काम केवल सरकार अकेले नही कर सकती है। इसमें सभी की भागीदारी आवश्यक है और आप लोगों ने इसे आन्दोलन बनाकर इस कार्य को सफल बनाया है। उन्होंने विश्व स्वास्थ्य संगठन की रिपोर्ट का हवाला देते हुए कहा कि इस स्वच्छता आन्दोलन से डायरिया में 30 प्रतिशत कमी आयी है तथा इसमें और भी कमी आयेगी। करीब तीन लाख बच्चों की जान बचाने में यह आन्दोलन सफल रहा है।

Share it
Share it
Share it
Top