दिल्ली सरकार की डोर स्टेप डिलीवरी योजना शुरू,पहले ही दिन आईं 21 हजार कॉल

दिल्ली सरकार की डोर स्टेप डिलीवरी योजना शुरू,पहले ही दिन आईं 21 हजार कॉल

नई दिल्ली। सरकारी प्रमाण पत्र घर पर ही मुहैया कराने वाली दिल्ली सरकार की डोर स्टेप डिलिवरी योजना सोमवार से शुरू हो गई। पहले चरण में सात विभागों की 40 सेवाओं को शामिल किया गया है। यह सेवा सुबह 8 से रात 10 बजे तक सातों दिन उपलब्ध होगी।

सभी सेवाओं के लिए एक कॉल सेंटर नंबर 1076 जारी किया गया है। इस पर फोन कर उपभोक्ता को कार्य संबंधित जानकारी और घर पर मिलने का समय बताना होगा। संबंधित कर्मचारी उपभोक्ता के घर जाएगा। घर पर ही काम से संबंधित कागजात स्कैन किया जाएगा और प्रमाण पत्र उपलब्ध कराया जाएगा। इसके लिए संबंधित सेवा की फीस के साथ 50 रुपये अधिक शुल्क देना होगा।

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने सेवा की शुरुआत के दौरान केंद्र और उपराज्यपाल पर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि दोनों ने योजना को रोकने की कोशिश की, लेकिन दिल्ली सरकार हार नहीं मानी। मुख्यमंत्री ने कहा कि 30-30 सेवाओं को योजना में शामिल कर इसका दायरा 100 तक बढ़ाया जाएगा। धीरे-धीरे दिल्ली सरकार से संबंधित सभी नागरिक से संबंधित सेवाओं को घर बैठे उपलब्ध कराया जाएगा। इस मौके पर मंत्री कैलाश गेहलोत, सत्येंद्र जैन, इमरान हुसैन, गोपाल राय समेत मुख्य सचिव अंशुप्रकाश भी उपस्थित थे।

मुख्यमंत्री ने कहा कि दिल्ली सरकार राशन की डोर स्टेप डिलीवरी पर भी काम कर रही है। दिल्ली सरकार की सेवाओं की केंद्र सरकार में भी चर्चा हो रही है। नई सेवा के साथ ही एक नए युग की शुरुआत हो रही है। इस सेवा की शुरुआत का सीधा प्रसारण दिल्ली के 58 केंद्र पर किया जा रहा था। मुख्यमंत्री ने इन केंद्रों से आए लोगों से भी सीधी बात की। उन्हें सरकार की योजना से अवगत कराया। मुख्यमंत्री ने कहा कि आम जनता को सरकारी विभागों में चक्कर काटने की अब जरूरत नहीं पड़ेगी। सरकारी विभागों से लाइनें खत्म होंगी।

मुख्यमंत्री ने कहा कि दिल्ली सरकार ने बीते तीन सालों में शिक्षा व स्वास्थ्य के क्षेत्र में बेहतर कार्य किया है। इस मॉडल की तारीफ दुनिया में हो रही है। विदेशों से भी इस मॉडल को देखने लोग दिल्ली आ रहे हैं। मोहल्ला क्लीनिक को दुनिया के स्वास्थ्य मॉडल का बेहतरीन मॉडल बताया गया है। अभी ऐसे 189 केंद्र चल रहे हैं। दिल्ली सरकार की योजना है कि इनकी संख्या बढ़ाकर 1000 किया जाए।

डोर स्टेप सेवा के सुधार के लिए सरकार ने एक फीड बैक सिस्टम भी तैयार किया है। इस पर आम जनता से काम पूरा होने के बाद राय ली जाएगी। इस मॉडल से सेवा को और भी सुधारा जा सकेगा। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि योजना के संबंध में कोई भी शिकायत होने पर 1076 नंबर पर शिकायत या जानकारी ली जा सकती है। बेहतर निगरानी के लिए सरकार हर जिले में एक सहायक सुपरवाइजर बनाएगी।

इस सेवा को लागू करने के लिए दिल्ली सरकार निजी एजेंसी (मोबाइल सहायक) की मदद लेगी। एजेंसी के माध्यम से आम जनता से प्रमाणपत्र, फोटो, आवेदन, बायोमीट्रिक जैसे दस्तावेज लिए जाएंगे। इसके बाद घर पर ही प्रमाणपत्र उपलब्ध कराया जाएगा। इस काम के लिए एक निर्धारित फीस देनी होगी।

21 हजार कॉल आईं कॉल सेंटर पर योजना के पहले दिन ही

2828 कॉल ही कनेक्ट हो पाईं हैवी नेटवर्क के कारण

1286 कॉल का जवाब दिया गया

369 एप्वाइंटमेंट फिक्स किए गए्र्र

07 लोगों से कागजात लिए गए उनके घर जाकर

इन सेवाओं की होम डिलीवरी :

-विवाह प्रमाण पत्र

-विधवा पेंशन

-गरीब महिलाओं की बेटी की शादी का प्रमाण पत्र

-निर्माण गतिविधियों में लगे कर्मचारियों का अनुबंध नवीनीकरण

-पानी के कनेक्शन, सीवर कनेक्शन, कनेक्शन रिओपन, कनेक्शन काटना

-गरीब परिवारों का बीमा कार्ड

-ओल्ड ऐज पेंशन, विकलांग पेंशन, दिल्ली फैमली बेनीफिट स्कीम

-वाहन आरसी, आरसी में बदलाव, मालिकाना हक बदलाव आदि

-ओबीसी, एसी, एसटी प्रमाण पत्र, डोमिसाइल, आय प्रमाणपत्र, जन्म मृत्यु प्रमाण, जमीन रिकॉर्ड, शादी पंजीकरण।

डोर स्टेप डिलीवरी योजना शुरू होते ही भाजपा प्रदेश अध्यक्ष मनोज तिवारी ने दिल्ली सरकार पर निशाना साधा। तिवारी ने प्रेस वार्ता कर बताया कि सरकार ने जो नंबर जारी किया है, उस पर वह पिछले पांच घंटे से कॉल कर रहे हैं, लेकिन कोई उठा ही नहीं रहा। उन्होंने कैमरे के सामने डोर स्टेप डिलिवरी के लिए बनाए गए कॉल सेंटर पर फोन किया, लेकिन नंबर नहीं लगा।

दिल्ली की 40 सेवओं को घर तक पहुंचाने का मसौदा आईआईटी एक्सपर्ट गोपाल मोहन ने तैयार किया है। मोहन, मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को टेक्नोलॉजी और एंटी करप्शन से जुड़े मामलों में सलाह देते हैं और यह योजना उनका ही ब्रेनचाइल्ड है। वह पिछले 3 साल से इस योजना पर काम कर रहे हैं। इसके वह वाईफाई और सीसीटीवी जैसी योजनाओं पर भी काम कर रहे हैं। योजना को शुरू करने के मौके पर खुद मुख्यमंत्री केजरीवाल ने गोपाल की तारीफ की।

Share it
Share it
Share it
Top