सवर्णों के भारत बंद का बिहार में व्यापक असर, रेल सेवा बाधित, कई जगहों पर की आगजनी

सवर्णों के भारत बंद का बिहार में व्यापक असर, रेल सेवा बाधित, कई जगहों पर की आगजनी


पटना । अनुसूचित जाति-अनुसूचित जनजाति (एससी-एसटी) संशोधन अधिनियम के विरोध में देश के सवर्ण संगठनों के आह्वान पर आज के भारत बंद का बिहार में भी व्यापक असर दिखने को मिल रहा है।

पटना समेत प्रदेश के तकरीबन सभी जिलों में सवर्ण संगठन के कार्यकर्ता सुबह से ही सड़कों पर उतर आये है। बंद समर्थकों ने कई जगहों पर जहां रेल सेवाओं को बाधित कर दिया है वहीं सड़कों पर आगजनी कर आवागमन को ठप कर दिया गया है। प्रदेश के कई जिलों में राजकीय और राष्ट्रीय राजमार्गो पर बंद के कारण कई किलोमीटर लंबा जाम लग गया है।

राजधानी पटना के अतिव्यस्तम डाकबंगला चौराहे पर पहुंचे बंद समर्थकों ने आवागमन को पूरी तरह बाधित कर दिया है। इसके अलावा राजधानी आयकर गोलंबर समेत कई प्रमुख सड़कों पर बंद समर्थकों ने टायर जलाकर मार्ग को अवरूद्ध कर दिया है। प्रदर्शनकारी केन्द्र सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी करते हुए इस संशोधन अधिनियम को वापस लेने की मांग कर रहे हैं। भारत बंद को लेकर राजधानी पटना समेत अधिकतर जिलों में निजी स्कूलों ने बच्चों को छुट्टी दे दी है। सवर्ण संगठनों के बंद को देखते हुए पटना समेत पूरे राज्य में सुरक्षा के व्यापक इंतजाम किए गये है।

बंद समर्थकों ने राजधानी पटना के राजेंद्र नगर टर्मिनल पहुंच कर प्रदर्शन किया और रेल सेवा बाधित कर दिया। इसके अलावा दरभंगा, आरा, जहानाबाद, गया, बेगूसराय, नवादा, मुंगेर में प्रदर्शनकारियों ने ट्रेनों को रोककर रेल सेवा को बाधित कर दिया है। इस कारण सवारी गाड़ियों के अलावा लंबी दूरी की कई रेलगाड़िया विभिन्न स्टेशनों पर खड़ी रहीं।

जहानाबाद में एससी-एसटी संशोधन अधिनियम के विरोध में भारत बंद के दौरान समर्थकों ने अरवल मोड़ के समीप राष्ट्रीय राजमार्ग-83 और 110 को जाम कर दिया। इस दौरान समर्थकों ने कई वाहनों के टायर की हवा भी निकाल दी जिसके कारण यात्रियों और प्रदर्शनकारियों में तीखी नोक-झोंक भी हुई।

नवादा से प्राप्त समाचार के अनुसार, इस अधिनियम के विरोध में भारत बंद का जिले में खासा असर देखने को मिल रहा है। आक्रोशित लोगों ने कई जगह पर मुख्य सड़कों को जाम कर दिया है। प्रदर्शनकारी सड़क पर आगजनी कर हंगामा कर रहे हैं। इसके चलते पटना-रांची मार्ग पर वाहनों का परिचालन ठप है। हंगामे के कारण यात्रियों को भारी कठिनाइयों का सामना करना पड़ रहा है।

भागलपुर से मिली जानकारी के अनुसार, जिले के सुलतानगंज में भारत बंद को लेकर सवर्णों ने सड़क जाम कर प्रदर्शन किया। प्रदर्शनकारियों ने असरगंज-शाहकुंड मुख्य सड़क को जाम कर बाधित कर दिया है। प्रदर्शनकारियों ने कई जगहों पर अगजनी कर आवागमन को पूरी तरह ठप कर दिया। बंद समर्थक केंद्र सरकार से एसी-एसटी एक्ट पर उच्चतम न्यायालय के आदेश को बहाल करने की मांग कर रहे हैं।

बिहारशरीफ से प्राप्त रिपोर्ट के अनुसार, भारत बंद का नालंदा जिला में असर देखा जा रहा है। बिहारशरीफ में सवर्ण शक्ति मंच के कार्यकर्ता सड़क पर उतर कर विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं। कार्यकर्ताओं ने राष्ट्रीय उच्च पथ संख्या 31 सहित कई जगह आगजनी कर सड़क मार्ग को अवरुद्ध कर दिया, जिससे गाड़ियों की लम्बी कतार लग गयी। जाम के कारण कई स्कूल बसों को वापस लौटना पड़ा। बंद के कारण राजगीर से खुलने वाली श्रमजीवी एक्सप्रेस और सवारी गाड़िया भी प्रभावित हुई हैं। बंद के कारण कई दुकाने स्वतः बंद रहीं।

आरा से मिली जानकारी के अनुसार, आरा स्टेशन पर पहुंचे बंद समर्थकों ने पटना-मुंबई के बीच चलने वाली लोकमान्य तिलक एक्सप्रेस को कुछ देर के लिये रोक दिया। वहीं, आरा शहर में प्रदर्शनकारियों ने कई जगहों पर टायर जलाकर सड़क को जाम कर दिया। निजी स्कूल प्रबंधन ने एहतियात के तौर पर स्कूलों को बंद रखा है।

उधर, औरंगाबाद, गया, कैमूर, रोहतास में भी बंद का व्यापक असर दिख रहा है। सवर्ण संगठनों के कार्यकर्ताओं ने कई जगहों पर राष्ट्रीय उच्च पथ को जाम कर दिया है। औरंगाबाद में रमेश चौक, बाईपास, जसोइया, रामाबांध के समीप लोगों ने सड़क को जाम कर दिया। गया जिले के कोंच, आमस, फतेहपुर, वजीरगंज में बंद का खासा असर दिख रहा है। बंद समर्थकों ने सड़क पर आगजनी कर आवगमन को बाधित कर दिया है। गया शहर में में भी बंद का असर दिख रहा है। इसके अलावा राज्य के अन्य जिलों में भी बंद का असर देखा जा रहा है।

सासाराम से प्राप्त समाचार के अनुसार, रोहतास जिले के डेहरी ऑन सोन में लोगों ने अतिव्यस्ततम ग्रैंड ट्रंक रोड को कई जगहों पर जाम कर दिया है। समर्थकों पर भभुआ-मोहनिया राष्ट्रीय उच्च पथ संख्या 219 को भी जाम कर दिया है।

दरभंगा में भी एससी-एसटी संशोधन अधिनियम के खिलाफ बन्द का असर दिखने लगा है। लोगों ने दरभंगा से नई दिल्ली जाने वाली सुपरफास्ट ट्रेन बिहार सम्पर्क क्रांति को लहेरियासराय के चट्टी चौक गुमटी के पास रोक दिया है।

प्रदेश के लखीसराय, मुंगेर, बेगूसराय, खगड़िया समेत अन्य जिलों में बंद का असर देखा जा रहा है। केंद्र सरकार द्वारा उच्चतम न्यायालय के फैसले को पलटते हुए एससी-एसटी अधिनियम में संशोधन कर मूल स्वरूप में बहाल करने के खिलाफ सवर्णों संगठनों ने आज भारत बंद का आह्वान कर रखा है।

Share it
Top