जैन मुनि तरुण सागर जी का 51 साल की उम्र में निधन,राष्ट्रपति,प्रधानमंत्री समेत कई मुख्यमंत्रियों ने निधन पर शोक जताया


भोपाल,। जैन मुनि और राष्ट्र संत तरुण सागरजी महाराज का 51 वर्ष की उम्र में निधन हो गया है। उनका समाधिमरण शनिवार सुबह 3:11 बजे दिल्ली में हुआ। वे कुछ समय से बीमार थे। जैन मुनि के निधन से देशभर में शोक की लहर है। आम जनता के साथ, समाज के बुद्धिजीवी वर्ग और राजनेताओं ने जैन मुनि के निधन पर गहरा शोक जताया है।उन्होंने 1 सितंबर 2018 को प्रातः 3.11 बजे अंतिम श्वास ली।उनकी अंतिम संस्कार विधि आज दोपहर 3 बजे तरुणसागरम तीर्थ दिल्ली मेरठ हाईवे पर होगी। यात्रा सुबह 7 बजे राधेपुरी दिल्ली से प्रारंभ हो चुकी है और तरुणसागरम पर पहुंचेगी।

राष्ट्र संत पूज्य का जाना सम्पूर्ण समाज के लिए अपूर्णीय क्षति हुई हैं। जिनवाणी को जन जन तक पहुचाने का संकल्प लेकर कड़वे प्रवचनों द्वारा लोगों को अपने जीवन में बदलाव के लिए प्रोत्साहित किया था। वे अपने नाम के अनुरूप अंतिम सांस तक तरुण बने रहे उनके ज्ञान के अपार सागर से कड़वे प्रवचनों को जैन समाज कभी भूल नहीं पायेंगे। ऐसे भव्यात्मा को भावपूर्ण, अश्रुपूरित श्रद्धांजलि

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, गृह मंत्री राजनाथ सिंह और वाणिज्य मंत्री सुरेश प्रभु ने जैन मुनि के निधन पर गहन शोक जताया है। श्री कोविंद ने अपने शोक संदेश में कहा, " जैन मुनि तरुण सागर के निधन के बारे में सुनकर बहुत दुख हुआ। अपने 'कड़वे प्रवचन' के लिए जाने जाने वाले जैन मुनि ने समाज को शांति और अहिंसा का संदेश दिया। उनके अनुयायियों के प्रति मेरी गहन संवेदनाएं।"

मोदी ने अपने शोक संदेश में कहा, " मुनि तरुणसागर जी महाराज के असामयिक निधन से गहरा दुख हुआ। हम उनके उच्च आदर्शों , करुणा और समाज में योगदान को लेकर उन्हें सदैव याद रखेंगे। जैन समुदाय और उनके अनुयायियों के प्रति मेरी गहन संवेदनाएं। " सिंह ने कहा, " मैं तरुण सागर जी महाराज के असामयिक महासमाधि के बारे में सुनकर सदमे में हूं। वह एक प्रेरणास्त्रोत एवं करुणा के महासागर थे। उनका निर्वाण देश के संत समाज के लिए एक बड़ी क्षति है। मैं मुनि महाराज को श्रद्धांजलि अर्पित करता हूं। " दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने अपने शोक संदेश में कहा, " मुनि तरुण सागर जी महाराज के निधन के बारे में सुनकर बहुत दुख हुआ। उनकी सीख और आदर्श मानवता के लिए हमेशा प्रेरणा बने रहेंगे।" अखिल भारतीय कांग्रेस समिति के मीडिया प्रभारी रणदीप सुरजेवाला ने कहा, " जैन मुनि तरुण सागर महाराज की खबर दुखदायी है। उनके सिद्धांत और संदेश हमारे समाज को सही राह दिखाते रहेंगे। मैं उनके अनुयायियों को संबल देने की ईश्वर से कामना करता हूं।"

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने भी जैन मुनि तरूण सागर महाराज के निधन पर गहरा शोक व्यक्त किया है। सीएम शिवराज ने ट्वीट कर उन्हें श्रृद्धांजलि अर्पित की है। अपने ट्वीट में मुख्यमंत्री ने लिखा है कि 'श्रद्धेय जैन मुनि, राष्ट्र संत, तरुण सागरजी महाराज के चरणों में सादर श्रद्धांजलि। आज हम सभी ने ऐसे महान मार्ग दर्शक व्यक्तित्व को खो दिया, जिनके प्रखर विचारों-वचनों ने राष्ट्र सेवा, कर्तव्यनिष्ठता व जीवन मूल्यों के प्रति करोड़ों लोगों को नई दिशा दी'।

अपने अगले ट्वीट में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने लिखा है कि 'दमोह की धरती को नमन करता हूँ, जो श्रद्धेय जैन मुनि तरुण सागरजी महाराज जैसे ईश्वर तुल्य विराट व्यक्तित्व की जननी है। अपने 'कड़वे प्रवचन' से हमारे जीवन को सार्थक स्वरूप प्रदान करने वाले ऐसे संत सदियों में एक बार धरती पर आते हैं। गुरुदेव कृपावर्षा से आप हमारे ह्रदय में अमर रहेंगे'।


Share it
Top