प्रदेश की इस जेल में मौजूद वीआईपी सुविधाएं, लखनऊ तक मचा हड़कंप

प्रदेश की इस जेल में मौजूद वीआईपी सुविधाएं, लखनऊ तक मचा हड़कंप


बागपत । बागपत जेल में कुख्यात माफिया मुन्ना बजरंगी की मौत के बाद जांच की रिपोर्ट आने लगी है। जांच में पांच को दोषी करार दिया गया है वही यह भी खुलाशा हुआ है कि सुनील राठी को बागपत जेल में वीआईपी सुविधाए दी गयी थी। जिसके कारण राठी ने इस हत्याकांड को अंजाम देकर जेल प्रशासन पर कानून व्यवस्था पर सवाल खडे कर दिये थे। तीन जेल कमीयों को बर्खास्गी तय मानी जा रही है।

नौ जुलाई को पूर्वांचल के माफिया डाॅन मुन्ना बजरंगी की गोली मारकर हत्या कर दी गयी थी। जिसकी मौत का इल्जाम सुनील राठी पर लगा है। राठी ने अपना जुर्म भी कबुल कर लिया है और उसको सेंट्रल जेल में रेफर कर दिया गया है। इस हत्याकांड को लेकर पिछले 25 दिनों से जांच चल रही है। जांच कर रहे अधिकरियों ने अभी तक कोई भी रिपोर्ट साझा नहीं की थी ,लेकिन डीआईजी जेल आगरा ने अपनी रिपोर्ट शासन को सौंप दी है। जिसमें सामने आया है कि बागपत जेल में सुनील राठी को खुली छूट थी। उसके मिलने वाले बिना रोकटोक जेल में आते जाते थे। सुनील राठी के करीबी कैदी भी उसके साथ ही रहते थे।

बाहर से आने वाले सामान की भी तलाशी नहीं होती थी। राठी का जेल में पूरा खौफ था, जेल प्रशासन उसके सामने नतमस्तक था और उसकी हुकूमत चलती थी। कहा जा सकता है कि जेल के अंदर सुनील राठी को वीआईपी सुविधाए दे रखी थी जिसके कारण यह लापरवाई सामने आयी और जेल के अंदर मुन्ना बजरंगी की मौत को अंजाम दिया गया। रिपोर्ट आने के बाद एडीजी ने जेलर, डिप्टी जेलर, समेत पांच को आरोप पत्र भेजकर तीन सप्ताह में जवाब मांगा है। जिसमें तीन जेल कर्मीयों की बर्खास्तगी तय मानी जा रही है।


Share it
Share it
Share it
Top