मुन्ना बजरंगी को नज़दीक से मारी गईं 10 गोलियां, बाहर आ गया था भेजा, पोस्टमार्टम रिपोर्ट में खुलासा

मुन्ना बजरंगी को नज़दीक से मारी गईं 10 गोलियां, बाहर आ गया था भेजा, पोस्टमार्टम रिपोर्ट में खुलासा

बागपत। माफिया डॉन मुन्ना बजरंगी की पोस्मॉर्टम रिपोर्ट सामने आ गई है। रिपोर्ट के मुताबिक मुन्ना बजरंगी को 10 गोलियां मारी गई थीं। सभी गोलियां नजदीक से मारी गई थीं जिसकी वजह से 9 गोलियां शरीर को भेदते हुए बाहर निकल गई जबकि एक गोली उसके सीने में फंस गई थी।

पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में ये भी खुलासा हुआ है कि मुन्ना को मौत के बाद कोई गोली नहीं मारी गई थी। इससे सोशल मीडिया पर चल रही उस अफवाह का भी खंडन हुआ है जिसमें उसे मौत के बाद भी सीने में गोली मारे जाने की बात हो रही थी। पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में मौत के बाद किसी प्रकार की इंजरी होने की बात सामने नहीं आई है।

बता दें कि चार डॉक्टरों की टीम ने 10 जुलाई को बागपत जिला अस्पताल में मुन्ना बजरंगी के शव का पोस्टमॉर्टम किया और इसके बाद उसके शव को बनारस भेज दिया गया जहां मणि कर्णिका घाट पर उसका अंतिम संस्कार किया गया। 11 जुलाई को आई पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में लिखा है कि मुन्ना के सिर में 6 गोलियां मारी गई थीं जिससे उसके सिर का दायां हिस्सा गोली लगने के कारण बाहर निकल आया था।
पोस्टमॉर्टम के मुताबिक मुन्ना को उठने का मौका ही नहीं मिल पाया। ताबड़तोड़ फायरिंग ने उसे ढेर कर दिया। राठी ने मुन्ना के सिर और सीने पर करीब से फायर किए और फिर पिस्टल को गटर में फेंक वापस अपनी बैरक में चला गया था।
बता दें कि इससे पहले मुन्ना बजरंगी की पत्नी सीमा सिंह ने बजरंगी की हत्या की आशंका जताई थी। उन्होंने मुन्ना बजरंगी हत्याकांड की जांच सीबीआई से कराने की भी मांग की है। उनका कहना है कि उन्हें शासन और प्रशासन की जांच पर भरोसा नहीं है। हालांकि उन्होंने शासन और प्रशासन की साजिश को हत्या की वजह बताई है।
इससे पहले 1998 में करनाल हाइवे पर पुलिस के साथ एनकाउंटर हुआ। बजरंगी को आठ गोलियां लगी थीं। पुलिस उसे अस्पताल में भर्ती कराने के बजाय मॉर्च्यूरी पर ले गई थी, जबकि वह जिंदा था। डॉक्टरों ने शरीर से सात गोलियां तो निकाल दी थी, लेकिन एक गोली उसके पेट में फंसी रह गई थी, जो इस बार हुए पोस्टमॉर्टम में निकली है।

Share it
Share it
Share it
Top