200 श्रद्धालुओं के साथ शुरु हुआ 'प्रवासी भारतीय तीर्थ दर्शन'...श्रद्धालुओं के आने-जाने से लेकर ठहरने एवं खानपान समेत तमाम खर्च उठायेगी सरकर

200 श्रद्धालुओं के साथ शुरु हुआ

वाराणसीप्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 200 श्रद्धालुओं के पहले जत्थे के साथ मंगलवार को यहां 'प्रवासी भारतीय तीर्थ दर्शन' कार्यक्रम की शुरुआत की। श्री मोदी ने वाराणसी में 15वें भारतीय प्रवासी सम्मेलन का उद्घाटन के अवसर पर इस योजना की घोषणा की। उन्होंने प्रवासी मेहमानों को संबोधित करते हुए उनसे अपने आसपास के स्थानीय पांच लोगों को इस योजना जोड़ने की अपील की। यह योजना भारत के बारे में दुनिया के लोगों को अधिक से अधिक जानने के साथ-साथ यहां पयर्टन का भी विकास होगा। विदेश मंत्रालय के अधिकारियों ने आज यहां बताया कि श्री मोदी द्वारा आज ही आरंभ हुई इस योजना के तहत केंद्र सरकार 45 से 65 आयुवर्ग के प्रवासी भारतीयों को भारत के सभी प्रमुख तीर्थ स्थलों का भ्रमण करायी। तीर्थ दर्शन यात्रा 25 दिनों की होगी और इस दौरान श्रद्धालुओं के आने-जाने से लेकर ठहरने एवं खानपान समेत तमाम खर्च सरकर उठायेगी। उन्होंने बताया कि हर साल 40 प्रवासी श्रद्धालुओं को हर साल भ्रमण कराया जाएगा, जिसे आने वाले समय में बढ़ाया जा सकता है। उन्होंने कहा कि भारत को जानिये कार्यक्रम, प्रवासी तीर्थ दर्शन योजना और केआईपी के तहत करीब 200 लोगों को विभिन्न धर्मों के तीर्थस्थलों का भ्रमण कराया जाएगा। तीर्थ यात्रा के लिए भारतीय रेलवे खानपान एवं पर्यटन निगम (आईआरसीटीसी) से सहयोग सबंधी एक समझौता आने वाले समय में किया जाएगा। उन्होंने बताया कि अनेक प्रवासी भारतीयों को भारत के तीर्थ स्थलों के भ्रमण की इच्छा जाहिर करते में सरकार कई बार आग्रह किया था। इसी के मद्देनजर इस योजना की शुरुआत की गई है।

Share it
Top