भारतीय सेना की ताकत बढ़ी...सेना को मिली के-9 वज्र और एम 777 होवित्जर तोप

भारतीय सेना की ताकत बढ़ी...सेना को मिली के-9 वज्र और एम 777 होवित्जर तोप

नई दिल्ली/देवलाली। भारतीय सेना की ताकत तथा मारक क्षमता आज उस समय और बढ़ गई, जब अत्याधुनिक तोपें के-9 वज्र और एम 777 होवित्जर तोप उसके हथियारों के जखीरे में औपचारिक रूप से शामिल हो गयीं।

रॉयल बुलेटिन की नई एप प्ले स्टोर पर आ गयी है।royal bulletin news लिखे और नई app डाउनलोड करें

महाराष्ट्र के देवलाली स्थित सेना के तोपखाना सेंटर की फायरिंग रेंज में रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण, रक्षा राज्य मंत्री सुभाष भामरे और सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत की मौजूदगी में इन तोपों ने अपनी ताकत का नमूना पेश किया और उनकी गर्जन से आसमान कांप उठा। इसके बाद इन्हें औपचारिक रूप से सेना में शामिल कर लिया गया। एम 777 अल्टा लाइट होवित्जर तोप अमेरिका से तथा के-9 वज्र तोप दक्षिण कोरिया से खरीदी गई हैं। शुरुआती खेप के बाद इन दोनों तोपों को मेक इन इंडिया कार्यक्रम के तहत विदेशी कंपनियों की भारतीय भागीदार कंपनियां देश में ही विकसित करेंगी। के-9 की दस तोप देश में ही असेम्बल की गई हैं, जबकि बाकी 9० यहीं विकसित की जायेंगी। सेना को इस मारक क्षमता की अत्याधुनिक तोप लगभग तीन दशक के बाद मिल रही है। रक्षा मंत्रालय के प्रवक्ता कर्नल अमन आनंद ने बताया कि सेना को अगले दो वर्षों में क्रमश: 4366 करोड़ रुपये तथा 5००० करोड रुपये की लागत से 1०० के-9 और 145 एम-777 होवित्जर तोप मिलेंगी। ये तोप सेना को दो महीने पहले मिलनी थी, लेकिन तकनीकी कारणों से इसमें कुछ देरी हुई। एम 777 तोप शुरू में अमेरिका की मरीन कोर और अमेरिकी सेना के लिए विकसित की गयी और बाद में 155 एम एम लाइटवेट श्रेणी में इसने अपना लोहा मनवाया। इस तोप का अमेरिका, कनाडा और आस्ट्रेलिया के जवान इस्तेमाल कर रहे हैं। सेना को 25 एम 777 तोपों की आपूर्ति जल्द की जायेगी, जबकि बाकी 12० देश में ही असेम्बल की जायेंगी। इन तोपों को मालवाहक विमानों में दूर दराज के दुर्गम क्षेत्रों में ले जाकर तैनात किया जा सकता है। एम 777 होवित्जर तोप 3० किलोमीटर तक मार करने की क्षमता रखती है। इन तोपों की खरीद का सौदा 2००6 में शुरू हुआ था, लेकिन यह लंबे समय से अटका पड़ा था। सेना के पास के-9 की पांच रेजिमेंट और एम 777 की 7 रेजीमेंट रहेंगी। के- 9 तोप 28 से 38 किलोमीटर तक मार कर सकती है और यह 3० सेकेंड में तीन गोले तथा तीन मिनट में 15 गोले दाग सकती है। इस मौके पर सेना को निजी क्षेत्र की कंपनी अशोक लेलैंड द्वारा बनाया गया ट्रक 'कॉमन गन टॉवर' भी मिला। इस ट्रक में सेना के लिए भारी हथियारों को आसानी से कहीं भी लाया और ले जाया जा सकता है।

Share it
Top